जल है तो कल है – अभिषेक आजाद

जल है तो कल है – अभिषेक आजाद

अक्सर सड़कों के किनारे बहती उस जलधारा में, आज बह गया मैं। सैकड़ों गाड़ियां गुजर रही थी, सैकड़ों लोग गुजर रहे थे, आने जाने वालों का तांता लगा हुआ था, पर फिक्र किसे थी, बहता है तो बहने दो मेरा क्या, मैं पूछना चाहता हूं उन लोगों से, मैं पूछना चाहता हूं आपसे, कल जब
Complete Reading

।।राजनीत की सड़कों पर लोकतंत्र की बेबसी। – अंकित कुमार दुबे

राजनीति सियासत की आड़ में किसान की बेवसी, शिमला की जल समस्या सब की सब दम तोड़तीं नजर आ रही हैं। लोकतंत्र के गलियारों से होते हुए राजनीति की चौड़ी सड़को पर उतरने की हमने भरपूर कोशिश की है। 2019 के लोकसभा चुनाव ने इस कदर राजनीत की सड़क को जाम किया हुआ है कि
Complete Reading

।।मिशन 2019।। – रिया श्रीवास्तव

राजनीति गरमा-गरम की माहौल देश मे इस समय जोरो-शोरो से है “सबका साथ सबका विकास” की राह अब टूटती नजर आ रही है। साल 2014 में सत्ता में आने के बाद जिस BJP का एक ही नारा था सबका साथ सबका विकास का, अब वह साथ छूटता और विकास की राह टूटता नजर आ रहा
Complete Reading

अकेला होने की आदत-दिशा शाह

ज़िन्दगी में अकेला होने की आदत हमेशा रखनी चाहिए क्यू की हर जगह हर समय कोई साथ हो ऐसा कभी हो ही नहीं सकता है . आदत ऐसी नहीं होती तोह कभी कभी हम कतराते है , अजीब फील होता है . क्यों होता है ऐसा क्यों की कभी भी अकेले खुद पर समय नहीं
Complete Reading

देश में किसान की हालत-दिशा शाह

आज की बढ़ती जिन्दगी में किसान की हालत बोहोत गंभीर होती  जा रही है . किसान पुरे साल खेती करते है .दिन रात मेहनत करते है . फिर भी पैट भरने लायक खाना नहीं मिलता है . किसान गर्मी हो या ठंडी कठोर परिश्रम करते है ,कठोर धुप में खेती करना पड़ता है , ज़्यादा
Complete Reading

देश में पानी की समस्या-दिशा शाह

हमारे देश में पानी की समस्या ख़तम नहीं हो रही है .पुरे पृथ्वी में ९८% पानी नाश हो गया है और मात्र २% पानी सुरक्षित है . जो हम पि रहे है . पानी इंसान के लिए जरुरी पदाथ है , पानी के बिना कोई भी सासे नहीं ले सकता ज्यादा देर तक . अगर
Complete Reading

पानी की समस्या-पूजा पाटनी

  पानी की समस्या किसी एक देश की नहीं, बल्कि पूरी धरती की है। इस धरती पर जितने भी जीव-जन्तु, पेड़-पौधे, व मानव किसी का भी जीवन बिना पानी के संभव नहीं है। हर एक को जीवित रहने के लिए पानी की आवश्यकता है। यही कारण है कि हर जगह लिखा होता है कि “जल
Complete Reading

।।देश में पानी की समस्या।। – अभी राजा फर्रुखाबादी

Turn off for: Hindi पिछले कुछ दशकों से जल संकट भारत के लिये बहुत बड़ी समस्या बनी हुई है। आबादी के लिहाज से विश्व का दूसरा सबसे बड़ा देश भारत भी जल के संकट से जूझ रहा है। भारत देश में जल की समस्या अपने शिखर पर है ,वर्तमान समय में 20 करोड़ भारतीयों को
Complete Reading

जो सुन्दर है वही सँजोया और तोड़ा जाता है – बृजेश पाण्डेय ‘बृजकिशोर’

सुन्दरता अपूर्व गुण है किसी वस्तु का, व्यक्ति या कह लीजिए सृष्टि में वर्तमान समस्त पदार्थ का। सुन्दरता देखने, महसूस करने की चीज है। सुन्दरता को केवल आँखों से देखना ही श्रेयस्कर है, यदि उसे छुआ तो उसका सौन्दर्य नष्ट हुआ समझो। जो सुन्दर है उसकी पूर्ण रक्षा करनी चाहिए। माली अपने बागान में सुन्दर
Complete Reading

देश बदल रहा है – हेमा पांडेय

बस और कुछ सालों तक होली दिवाली मना लिजीये दिवाली होली शिव रात्री जन्माष्टमी करवाचौथ मकर संक्रांति बैशाखि पोंगल दुर्गा पुजा बिहु ये सब कुछ साल हीं चाहेंगे. जानना चाहेंगे क्यों The Institute of World Demographics Research ने भारत का धार्मिक जनगणना का डाटा 1948 से 2017 तक निकाला है और 2041 तक जनसंख्या का
Complete Reading

Create Account



Log In Your Account