Top Hit Jokes of December 2016 in Hindi दिसम्बर 2016 के सबसे मज़ेदार चुटकलें  बीवी-..ये बन्दूक लेके दरवाजे पे क्यों खड़े हो..? पति-शेर का शिकार करने जा रहा हूँ.. बीवी-..तो जाते क्यों नहीं..? पति-..बाहर कुत्ता खड़ा है.. ????????? पप्पू जब भी कपडे धोता , तब ही बारिश हो जाती . 1 दिन धुप निकली तो

Read More »

यह क्हानी है- गाँव विचारपुर की जो आशीष घोड़ेला के खवाबो की दुनिया मे बसा है। इस गाँव मे अनेको परिवार रहते थे। उनमे से एक परिवार मे केवल दो भाई-बहन थे। जिनके माता-पिता पहले मर चुके हैँ। इन दौनो भाई बहन मे बहुत गहरा प्यार था। भाई का नाम रामकिश्न व बहन का नाम

Read More »

दशहरा के दिन करीब आते जा रहे है। एक दिन मन मे खयाल आया कि क्योँ न हम इसे अलग तरीके से मनाए। केवल पुतले को जलाने से क्या होता है? इससे केवल प्रदुषण और धन बर्बादी होती है। बहुत सोचने के बाद मन मे खयाल आया कि हम इस बार रावण तो जरुर जलाँएगे

Read More »

किसी स्थान पर एक महान चित्रकार रहता था। एक बार उसने बाल कन्नहिया का चित्र बनाना चाहा। उसने अनेकोँ चित्र बनाए पर उसे एक भी पसंद नहीँ आया। वह उदास रहने लगा। पंरतु एक दिन रास्ते मेँ चित्रकार ने एक बहुत सुन्दर, मासूम, भोला, तैजस्वी, मनमोहक, बालक देखा। उसके देखते ही उसके मन मे क्रष्ण

Read More »

पहचानने को हम भुलेँ नहिँ आँख मुंदकर हम बेठेँ नहिँ स्वतंत्रता हमारी थी और हमारी रहेगी देश के लिए कल वो मरेँ, तो आज हम भी मर सकतेँ हैँ भारत माता के अरमान पुरे कर सकतेँ हैँ पर साथी मेरे गुमराह हो जाते हैँ थोडेँ से लालच मेँ नुक्सान देश को पँहुचा देते हैं भुल

Read More »

एक बार मैँ अकेला विदेश घुमने गया। वहाँ पर मुझे टिब्बो से गुजरना पड़ा। अचानक एक जोरदार तुफान आया। तुफान सच मेँ बहुत भयँकर था। इतना तेज की मुझसे चला ही नहिँ जा रहा था। फिर एक तेज जोरदार हवा का झोँका मुझे उड़ा ले गया। और एक खड़े मेँ गिर गया। मैने अपने पाँव

Read More »

हमने एक बात सुनी है कि सबसे भयंकर क्या है? जिससे भगवान भी डरता है। वह है परीक्षा। इस तीन अक्षरोँ से बने शब्द से आज तक तीनोँ लोकोँ मेँ कोई नहीँ बच पाया है। पशु, पानी, जानवर, मनुष्य, राक्षस और भगवान भी! हम जन्म से लेकर मुरत्यु तक हम परिक्षाएँ देते रहते है, और

Read More »

आया बेसाखी का त्यौहार सगं लेकर गेहूँ कटाई का समाचार गेहूँ हो गई है पक्क कर तैयार देख-देख इसको खुश होए किसान मुछोँ पर हाथ फेरे, सपने पुरे होते देखे किसान मचा दी इसने धूम, शुष्क हवाओँ की फिर सुनाई दी गुजँ पसीने को पोंछता, ग्रमी और धूप से लड़ता किसान जी तोड कटाई मे

Read More »

हवा की ये मतवाली चाल फूलोँ की झूमती डाल रंग-बिरगेँ किटोँ का जाल इसको कष्ट ना पहुँचाना रे मानव ! छु गई है दिलको मरे आया बसंत बनकर ये कैसा मेहमान खेलती है संग मेरे ये खेल ग्रीष्म मे जला दिया, शीत मे जमा दिया रुठ गए हमतो, बसंत मनाने चला आया उदासी भरे जीवन

Read More »

क्हने को तो भारत हो गया था आजाद 15 अगस्त सन 1947 को 64 वर्ष बीत गए हैँ-2 अबतक हुआ नहीँ पूर्ण आजाद है यहाँ अभी भी लुट-डकैत और भ्रष्टाचार इसके लिए लडे है कई देशभक्त अन्ना हजारे और कई हजार कोई लडता है धन के लिए कोई लडता है परिवार के लिए पर हमारे

Read More »