एक शुरुआत
लोग कहते है तरकी कर,
दोस्त कहते है मजे़ कर।
गुरु कहे कुछ भी कर ,मगर सही तरीके से कर ।

कोई कहे प्यार कर ,तो कोई कहे इंतजार कर।
कोई कहे ये कर तो कोई कहे बो कर।

पर मेरा दिल कहता है ,कि एक नई शुरुआत कर।
भूल जा दुनिया “और भूल जा सारे बंन्धन ,
बस तू किसी से न डर।
बस एक छोटा सा खुद पर एहसान कर,
तु खुद को आजा़द कर।

कर वही जो दिल कहे , न सुन दुनिया की ,
चाहे जिदंगी रहेया न रहे।।

अर्थात-: हम चाहे तो कुच्छ भी कर सकते हैं।
बस जरुरत है एक शुरुआत की, जिंदगी की शुरुआत की।।।

अमन शर्मा

एक शुरुआत By अमन शर्मा
Rate this post

Leave a comment

Leave a Reply