यादें एक सरल शब्द है,
केवल जहन की बातें या तकलीफें हैं यादें,
कुछ बातें, कुछ मुलाकातें और फिर यादें |
मिलना और मिल के बिछड़ना ,
तस्वीरें देख के आँसू का फिसलना
और रह जानी हैं तो बस क्या, यादें
बस वही यादें…!!!
बस वही यादें …!!!

Sachin Om Guptaसचिन ओम गुप्ता,
चित्रकूट धाम

बस वही यादें – सचिन ओम गुप्ता
5 (100%) 1 vote

Leave a comment

Leave a Reply