दृष्टिदोष Poem BY प्रोo लक्षमीनारायण मंडल

Get Website for Your Business, we're here for you!
DishaLive Web Design & Solutions

दृष्टिदोष

समझा नहीं किसी ने, समझेगा उस दिन
जब मैं दुनियाँ छोर चला जाऊँगा !
खोजेगी दुनियाँ, पर मैं मिलूँगा नहीं !!

साहित्य लाइव रंगमंच 2018 :: राष्ट्रीय स्तर पर हिंदी प्रतियोगिता • पहला पुरस्कार: 5100 रुपए राशि • दूसरा पुरस्कार: 2100 रुपए राशि • तीसरा पुरस्कार: 1100 रुपए राशि & अगले सात प्रतिभागियों को 501/- रुपये प्रति व्यक्ति

देखते हैं लोग अपनी दृष्टि से,
जितने लोग उतनी दृष्टि से !
भला कैसे दिखेगी दुनियाँ एक जैसी ?

जो है वो दिखता नहीं,
दिखता वह, जो है नहीं!
देखेगी दुनियाँ, जब रहूँगा नहीं,
है पर दिखता नही, दृष्टि में है दोष, दिखेगा नहीं !!

है एक, हम देखते अनेक,
भ्रम है, या फिर दृष्टिदोष ?
मन और दृष्टि साफ करो, दिखेगा केवल एक !!

प्रोo लक्षमीनारायण मंडल
कुर्सेला, कटिहार

दृष्टिदोष Poem BY प्रोo लक्षमीनारायण मंडल
5 (100%) 1 vote

0

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account