मेरा नाम ही काफी था – नेहा श्रीवास्तव

मेरा नाम ही काफी था – नेहा श्रीवास्तव

मै थोडी सरल क्या हो गयी,वह शख्स अपना ईमान बदल बैठा.
असर इस कदर हुआ कि अपनी पहचान बदल बैठा .
युँ तो हम मिलते नही हर किसी से बार बार,
मेरा नाम ही काफी था ,वह अपना नाम बदल बैठा.

साहित्य लाइव रंगमंच 2018 :: राष्ट्रीय स्तर पर हिंदी प्रतियोगिता • पहला पुरस्कार: 5100 रुपए राशि • दूसरा पुरस्कार: 2100 रुपए राशि • तीसरा पुरस्कार: 1100 रुपए राशि & अगले सात प्रतिभागियों को 501/- रुपये प्रति व्यक्ति

Neha Srivastavaनेहा श्रीवास्तव
उत्तर प्रदेश (बलिया)

मेरा नाम ही काफी था – नेहा श्रीवास्तव
3 (60%) 2 votes

0
Get Website for Your Business, we're here for you!
DishaLive Web Design & Solutions

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account