तुम बिन – सोनम सिंह

तुम बिन – सोनम सिंह

तुम बीन नही कुछ भी मेरा,
मेरी दिन मेरी रात तुम।
मेरी जिंदगी की हर आश तुम।
जाने ना दूंगी दूर कही,
तुम बिन मैं मर जाऊँगी।
बादा है तुमसे ये मेरा,
मैं दूर कभी ना जाऊँगी।
तेरी हर खुशियो के लिए,
मैं हद से भी गुजर जाऊँगी।
मैं शाम तुम सबेरा मेरा,
मैं निर तुम सागर हो।
कभी सोच लिया होता तुमने,
तुम बिन मैं कैसे जी पाऊँगी।
लाश ये जिंदा तन होगा,
मैं जीते जी मर जाऊँगी।
मेरी जीत और हार हो तुम,
मेरी खुशियो का पैगाम हो तुम।
मेरी जिंदगी मे बरदान हो तुम,
मेरी हर एक अरमान हो तुम।
तुम बिन कैसे जी पाऊँगी,
तुम बीन मैं मर जाऊँगी।
तुम बीन मैं मर जाऊँगी।।
M nthing without u

साहित्य लाइव रंगमंच 2018 :: राष्ट्रीय स्तर पर हिंदी प्रतियोगिता • पहला पुरस्कार: 5100 रुपए राशि • दूसरा पुरस्कार: 2100 रुपए राशि • तीसरा पुरस्कार: 1100 रुपए राशि & अगले सात प्रतिभागियों को 501/- रुपये प्रति व्यक्ति

Sonam Singhसोनम सिंह,
पटना (बिहार)

तुम बिन – सोनम सिंह
5 (100%) 3 votes

0
साहित्य लाइव रंगमंच 2018 :: राष्ट्रीय स्तर पर हिंदी प्रतियोगिता • पहला पुरस्कार: 5100 रुपए राशि • दूसरा पुरस्कार: 2100 रुपए राशि • तीसरा पुरस्कार: 1100 रुपए राशि & अगले सात प्रतिभागियों को 501/- रुपये प्रति व्यक्ति

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account