मैं कवि…(कविता) By विश्वम्भर पाण्डेय ‘व्यग्र’

मैं कवि…(कविता) By विश्वम्भर पाण्डेय ‘व्यग्र’

मैं कवि… (कविता) कभी अक्षर की खेती करता कभी वस्त्र शब्दों के बुनता बाग लगाता स्वर-व्यंजन के मात्राओं की कलियां चुनता मैं कवि, कृषक के जैसा करता खेती कविताओं की और कभी बुनकर बन करके ढ़कता आब नर-वनिताओं की भूत-भविष्य-वर्तमान सभी तीनों काल मिले कविता में बर्फ के मानिंद ठंडक मिलती ताप मिलेगा जो सविता
Complete Reading

वंदन Poem by विश्वम्भर पाण्डेय ‘व्यग्र’

हे सत्य सनातनहे अनंतहे शिव भोलेहे जगत-कंत हे शक्ति नियंतासंघारकहे डमरू,त्रिशूलके धारक हे महादेवहे शिवा पतितव ध्यान मग्नसब योगी-यती ले अतुल भक्तिविश्वास धारमैं रहा आजतुझको पुकार मम् वंदन कोस्वीकार करोइस धरती केसंताप हरो… ***********         < p dir=”ltr”>-विश्वम्भर पाण्डेय ‘व्यग्र’           गंगापुर सिटी (राज.)

Create Account



Log In Your Account