पहचानने को हम भुलेँ नहिँ आँख मुंदकर हम बेठेँ नहिँ स्वतंत्रता हमारी थी और हमारी रहेगी देश के लिए कल वो मरेँ, तो आज हम भी मर सकतेँ हैँ भारत माता के अरमान पुरे कर सकतेँ हैँ पर साथी मेरे गुमराह हो जाते हैँ थोडेँ से लालच मेँ नुक्सान देश को पँहुचा देते हैं भुल

Read More »

क्हने को तो भारत हो गया था आजाद 15 अगस्त सन 1947 को 64 वर्ष बीत गए हैँ-2 अबतक हुआ नहीँ पूर्ण आजाद है यहाँ अभी भी लुट-डकैत और भ्रष्टाचार इसके लिए लडे है कई देशभक्त अन्ना हजारे और कई हजार कोई लडता है धन के लिए कोई लडता है परिवार के लिए पर हमारे

Read More »