Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

माई दुनीया तेरी छोड छला (माई तन्हा जेना सिख राह)-नीतेश शाक्य अजनबी

पुरानी ध्वनि नया तरीका:-
ध्वनि :-मैं दुनिया तेरी छोड़ चला
मैं तन्हा जीना सीख रहा,
नजरों के सामने मत आना|
आंसू छलकते नैनो से,
पोंछने के बहाने मत आना|
मैं तन्हा…………………..
💝💔💓💕💗💘
करके बादे वफा के हमसे,
गैरों से प्रीति लगा बैठे|
जब से मिल गया मीत उनको,
हमसे निगाहें हटा बैठे|
तू करेगी याद मुझको एक दिन,
जब लुटेगा तेरा आशियाना||1||
मैं तन्हा…………………..
💝💔💓💕💗💘
दौलत की भूखी बेवफा ने,
एटीएम सा यूज किया|
जब हाथों में दौलत खत्म हुई,
तब मिलना हमसे बन्द किया||2||
दौलत की चेरी बेवफा,
मैं हूं तेरा दीवाना…….
मैं तन्हा…………………..
💝💔💓💕💗💘
वो थी खून की प्यासी मलिका,
खून से नाम लिख डाला|
उसके इश्क में चूर हुए,
प्यार में ऐसा कर डाला
लहू से लिखे नाम को देख,
था होठों पे उसके मुस्कुराना
मैं तन्हा जीना सीख रहा,
नजरों के सामने मत आना
💘💕 #nsajanbi 🙏👈
🙏Sorry for wrong words👏

54 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
नीतेश शाक्य अजनबी

नीतेश शाक्य अजनबी

🎶🎼Music hobby,song, 📝writing,poem,gajal and 🖥️⌨️computer 🖱️🖨️expart work 📲📱Mobile accessories & Led bulbs hole seller🖲️🔋🔌🎤🎧

Leave a Reply

ग़ज़ल – ए – गुमनाम-डॉ.सचितानंद-चौधरी

ग़ज़ल-21 मेरी ग़ज़लों की साज़ हो , नाज़ हो तुम मेरी साँस हो तुम , मेरी आवाज़ हो तुम मेरे वक़्त के आइने में ज़रा

Read More »

बड़ो का आशीर्वाद बना रहे-मानस-शर्मा

मैंने अपने बड़े लोगो का सम्मान करते हुए, हमेशा आशीर्वाद के लिए अपना सिर झुकाया है। इस लिए मुझे लोगो की शक्ल तो धुँधली ही

Read More »

Join Us on WhatsApp