राजनेता, कानून, और रेप - Pinky kumari

राजनेता, कानून, और रेप     Pinky kumari     आलेख     अन्य     2022-09-27 00:10:29         77654           

राजनेता, कानून, और रेप

 हमारे देश में दोषियों को रिहाय और
बेगुनाह को सजा दि जाती है। और हर जगह
अपराध फैलाने वाले राजनेता जो राजनेता
देश का अपराध मिटाने की बात करते असल
जिस कुर्सी पर वो बैठे है वो कुर्सी ना
जाने कितने अपराध करके उन्हें  मिलती
है। मुझे अफसोस है। कि नई दिल्ली
निर्भया के कैस का मुझे अफसोस है। ,उन 11
केदियों का जो सरकार द्वरा रिहायी कर दि
गयी मुझे अफसोस है। अंकिता के कैस का
जिसकी ईमानदारी के बदले में उसे मार
दिया गया ना जाने ऐसे तमाम कैस है। जिन
पर हम अफसोस कर सकते और कुछ नहीं इन
बलात्कारीयो पर पिछले 70 सालों में किसी
भी सरकार द्वारा कोई भी एक्शन नहीं लिया
गया राजनेताओं को पता है। कि जनता क्या
करेगी ज्यादा से ज्यादा विरोध करेंगी
और क्या करके रह जायेगी . हर मुदो पर 
विरोध करना तो जनता का काम है। विरोध
करना कोई बड़ बात नहीं है। राजनेताओं 
के लिए  पैसा फेक तमाशा देख और कानून कि
बात करे तो कानून भी पैसो पर चलता हैं।
हम बात करे 2021 की नई दिल्ली राष्ट्रीय
अपराध रिकॉड ब्युर की (एनसीआरबी) की नई
रिपोर्ट के अनुसार भारत में रेप के कुल
मामले 31,677 यानी रोजाना औसतन 86 मामले दर्ज
किए गये है। भारत में हर 2 मिनट में 3 रेप
की वारदात होती है। राजस्थान में सबसे
ज्यादा  जब तक देश के राजनेता और देश का
कानून इन भाड़ों के हटूओं पर चलेगा तब
तक बलात्कार जैसे तमाम अपराध इस देश मे
होते रहेगे बात थोड़ी कड़वी पर यही सत्य
है। में देश के तमाम माता पिता से कहना
चाहूंगी कि अपनी बेटीयो कि परवरिश एक
बेटे की तरह करो और एक बैट की तरह ही नहीं
बल्की उसे भी अच्छी करो ताकी इन भाड़े
के टटू अगर मिल भी जाये तो आपकी बेटी
इनका सामना कर सके  इन बलात्कारियो के
डर से अपनी बेटीयों को घर के अन्दर बन्द
मत किजीय बल्की इनका डट के सामना कर सके
ऐसा बनाये नारी एक शक्ति का रूप हैं।
इसे रूप बनाकर मत छोड़े बत्की शक्ति
बनाये ताकी ऐसे अपराध बन्द हो और फिर
देखे देश का कानून और नेता आपका कैसे
साथ देखते 

Related Articles

मैया तेरे चरणों में फूल चढ़ाऊं मैं
Chanchal chauhan
मैया तेरे चरणों में फूल चढ़ाऊं मैं, करदे अपनी ममता की छाया, तेरा ध्यान लगाऊं मैं। जय मां लक्ष्मी 🙏
57808
Date:
27-09-2022
Time:
00:00
महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Chanchal chauhan
औरत बिना संसार ना चले, घर-परिवार ना चले, जग की नींव हैं नारी, बेटी, बहू, मां बनकर सबका ध्यान रखते है नारी, पति की सफलत
3558
Date:
26-09-2022
Time:
23:20
थोड़ी सी मोहलत मिले जिंदगी
Shubhashini singh
तो हम भी पुरानी यादों में खोना चाहते है कल की फ़िक्र किसको है हम तो बस तेरा होना चाहते है फिर डूब जाना चाहते है उन्
21361
Date:
26-09-2022
Time:
22:35
Please login your account to post comment here!