अनमोल रिस्ता वो है दोस्ती-दीशा शाह

अनमोल रिस्ता वो है दोस्ती-दीशा शाह

दोस्त ऐसे होने चाहिए की हर मुश्किल परिस्थिति में आप के साथ हो , .ना की ऐसे की मुश्किल परिस्थिति में आप को छोर कर चले जाए . सच्चा दोस्त वो कहलाता है वो सुख में तोह साथ देता है . साथ में दुःख में भी साथ देता है. हम कभी परिवार वालो को नहीं बताते है ,वो बात हम दोस्त को बताते है . दोस्त वो होता है जो हमें समजे , हमारी भावनाओ को तब ही हम उससे सब बात बता पाते है . अगर समझदारी ना हो तोह कभी दोस्त बनते ही नहीं . आज के समय में ज्यादा तर दोस्ती के सबंध में स्वार्थ छुपा हुआ होता है , बोहोत कम सबंध ऐसे देखने को मिलते है ,उसमें स्वार्थ बिलकुल भी ना हो .दोस्त अपना फर्ज अदा बेखुदी से करते है . दोस्त को तकलीफ में देख कर , मदद करते है , और सही सलाह देते है , प्रेरणा देते है , साथ देते है . ज़िन्दगी में आगे बढ़ने का सहायता देते है . दोस्त से मजाक मस्ती , दोस्त के साथ समय गुजारना अनोखा ही महसूस होता है . ऐसा लगता है हमें की हम कभी अलग न हो कभी भी हमेशा बात होती रहे मिलना होता रहे , दोस्त से सब बात बांटने से दिलको सुकून मिलता है. ऐसे दोस्त किस्मत वालो को मिलते है . दोस्ती में १००% समझदारी होती है और विस्वास. इसलिए सबंध में बॉन्डिंग बढ़ने लगती है . दोस्त जैसी यारी दोस्ती हमे इस दुनिआ में कही भी देखने को नहीं मिलेगी .

 

       Disha Shah

दीशा शाह
पश्चिम बंगाल, कोलकाता

0

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account