Notification

अपनी जिंदगी के फैसले खुद लेना सीखो-जल्पा-सोलंकी

अक्सर हम ये देखते है कि लोग अपनी जिंदगी के फैसले बस यूं ही के लेते है दूसरों भरोसे या फिर दूसरों से बेहतर खुद को दिखाने के लिए या फिर दूसरों कि बराबरी करने के लिए बिना ये सोचे की जो फैसला उनकी जिंदगी के लिए या फिर जिन पर
उनका पूरा कल होगा वो फैसला उनके लिए सही है या नहीं
उस खुदा ने हर इंसान को खास बनाए है हर इंसान को सोचने की समझे की अपना भला बुरा सोचने की शक्ति प्रदान की है तो क्यू इंसान हमेशा अपनी काबिलियत अपनी खुशी के बारे में ना सोचकर अपनी जिंदगी के बारे में ना सोचकर
हमेशा ऐसे फैसले लेता है जो उनके लिए नहीं बल्कि समाज या फिर दूसरों कि नजरो में सही हो ।
इंसान ये क्यू नहीं समजता लिए जिंदगी उसकी है उस खुदा का दिया हुआ नायाब तोफा ओर उसकी जिंदगी के किसी भी निर्णय से समाज को या फिर दूसरों को कोई फर्क नहीं पड़ने वाला आपकी जिंदगी का हर निर्णय से सिर्फ आपकी ही जिंदगी को फर्क पड़े गा इस लिए अपनी जिंदगी के फैसले खुद लो वो करो जो करना तुम्हे अच्छा लगता हो जो काम करने में तुम्हे खुशी मिलती हो क्युकी जिंदगी तुम्हारी है
ओर तुम्हारा हर फैसला तुम्हारी जिंदगी को एक नई दिशा देगा।

     जिंदगी अगर हमारी है तो हर फैसला इस जिंदगी का हमारा होना चाहिए
       औरों का नहीं ये फैसला हमारी जिंदगी का सिर्फ हमारा होना चाहिए   

Leave a Comment

Connect with



Join Us on WhatsApp