ख़ुशी-दीशा शाह

ख़ुशी-दीशा शाह

ज़िन्दगी में हम सब ख़ुशी के लिए क्या कुछ नहीं करते. सब कुछ करते है. फिर भी वो ख़ुशी नहीं मिलती हमें क्यों . क्यों की मन में वहम बस जाता है की ये मिल जाएगा. , ये हो जाएगा तोह खुश होंगे . ग्रेजुएशन कम्पलीट होगा तोह खुश होंगे , जॉब मिल जाएगी तोह खुश होंगे , ये सब से हमारी ज़िन्दगी का ख़ुशी से कुछ भी तालमेल ही नहीं होता है . आप कुछ भी करते हो की नहीं , आप कामयाब होते हो की नहीं ये सब से ख़ुशी का कोईलेना देना ही नहीं होता है. ख़ुश कब होते है ,हम जब हमारे ज़िन्दगी में तनाव की जगह भी ना हो , हमें ज़िन्दगी में सुख हो या दुःख हो हम स्वीकार करे भागे नहीं .दढ़ता से ज़िन्दगी जिए .कोई भी दिक्कतो का समझदारी से समाधान करे . समझदारी से समाधान कर के बड़ी से बड़ी दिक्कतों का भी निकाल होता है .फिर हम ज़िन्दगी में खुस होंगे . खुश होने के लिए सब कुछ नहीं करेंगे. . ख़ुशी से जियेंगे ज़िन्दगी . ज़िन्दगी में जब कोई भी समस्या का हल निकलेगा . फिर हम ज़िन्दगी खुल कर जी सकेंगे . खुद की नजरो में उठेंगे , . फिर हमारी ज़िन्दगी ख़ुशी से भरपुर होगी .

 

     Disha Shah दीशा शाह
  पश्चिम बंगाल,कोलकाता

 

 

 

 

1+

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account