Notification

कहानियाँ

सच्ची प्रार्थना

सन्त रामदास जी जब प्रार्थना करते थे तो कभी उनके होंठ नही हिलते थे। शिष्यों ने पूछा – हम प्रार्थना करते हैं, तो होंठ हिलते हैं। आपके होंठ नहीं हिलते ? आप पत्थर की मूर्ति की तरह खडे़ हो जाते हैं। आप कहते क्या है अन्दर से? क्योंकि, अगर आप अन्दर से भी कुछ कहेंगे, …

सच्ची प्रार्थना Read More »

Man ki baat

Us din mera aur mera bhaiya ka tabiyat kharab tha mujhe sardi khasi huwa tha main us din school nahi gaya aur tution off tha main pura din udaas baitha tha meri mummy ko hamari bahut chinta  ho rahi thi aur paise ki kami thi usliye meri mummy mere liye kuch karbi bhi nahi sakti …

Man ki baat Read More »

ये दोस्ती-केशव गौतम

” ये दोस्ती ” मुझे तुमसे है जो,वो मोहब्बत नहीं है, हमारी दोस्ती उससे,बढ़कर कहीं है।। जिसे किसी ने न जाना,था उसे तुमने जाना, जिसे किसी ने न माना,था उसे तुमने माना, मेरी तो हर इक आरजू….बस…तू ही है, यह दोस्ती मोहब्बत से बढ़कर कही है, मुझे तुमसे है जो,वो मोहब्बत नहीं है, हमारी दोस्ती …

ये दोस्ती-केशव गौतम Read More »

कोरोना-शबिया नूर

बैठे हैं यहां सब एक दूसरे से दूर दूर सब ने यहां मास्क लगाया है देखो यहां आज इंसान इंसान से घबराया है कोरोना का सबसे ज्यादा फायदा सैनिटाइजर ने उठाया है कभी ना बिकने वाला प्रोडक्ट अब हर घर में आया है पैदल चलकर नाप डाली है मेरे देश के मजदूरों ने सड़कें उनकी …

कोरोना-शबिया नूर Read More »

जय भीम नमौ बुध्दाये। होली दोज कि सच्चाई क्या है-अनेश गौतम

हैलो दोस्तो मै हू आपका दोस्त अनेश गौतम आज हम आपको बतायेंगे होली दोज कि सच्चाई क्या है तो चलिये आगे बड़ते है। होली दोज कि सच्ची कहानी है। जब हमारी बहन होलिका अपने भतीजे कौ जंगल मै खाना देने के लिये गई थी तभी उन सात बिष्णुबादी लड़को ने होलिका का बलत्कार कर के …

जय भीम नमौ बुध्दाये। होली दोज कि सच्चाई क्या है-अनेश गौतम Read More »

थोड़ी खुशी थोड़ी उदासी-पलक राय

दस साल बाद जनार्दन बाबू शहर से अपने गांव खगरौन के लिए रवाना होने वाले थे ,रात से ही काफी उत्साहित नजर आ रहे थे सुबह 5 बजे ट्रैन था उन्होने अपने सभी कपडे अच्छे बैग में पैक कर रहा था,वो सुबह के लिए नाश्ता रात में ही बना लिए क्योकि उतना सुबह खाना कौन …

थोड़ी खुशी थोड़ी उदासी-पलक राय Read More »

याद-कमलेश ठाकुर

तेरे जाने के बाद और कुछ भी नही बचा जिंदगी में बस तेरी कुछ यादें हैं बही बची हैं दिल में तुझको रोज याद करता हुं तेरी उन पुरानी तस्वीरों को देखकर तूतो मुकर गई वादों से मेरे हालातों को देखकर तेरी बस यादें ही यादें रह गई जिन्दगी के अन्जान सफर में मैं तो …

याद-कमलेश ठाकुर Read More »

लक ऑफ़ चांदनी -अंजलि पथरी

The confidence in enchanting luck. luck have crated puppets. magic of luck very different. luck is magic and miracles. in this story what color does a Chandni bring. this will listen below in this story. what going on Chandni’s life? Chandni lived in an orphanage. Chandni was 22 years old. her name was very similar …

लक ऑफ़ चांदनी -अंजलि पथरी Read More »

वो भटका, गिरा, उठा और चल दिया-सोदान सिंह

✍️वो भटका, गिरा, उठा और चल दिया ✍️ ———————— एक छोटे से गाँव का लड़का अमन 12वीं बाद शहर आता है ताकि वो प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी कर सके। अमन को स्वयं पर विश्वास है कि वहां से अपनी नौकरी पक्की करके ही गांव जाएगा । अमन का परिवार ग्रामीण स्तर पर संपन्न परिवार था …

वो भटका, गिरा, उठा और चल दिया-सोदान सिंह Read More »

Join Us on WhatsApp