Notification

शिव शंकर

परम सत्य ✨-अंजू कँवर

मैं ही सत्य है.. मै ही निरंकार हूं🕉️              अदभुत हूं मै..चारो दिशा हूं मै.🕉️ सर्वेश हूं मै नीलकंठ हूं मै🕉️            पुरुष हूं मै..🌟 स्त्री भी हूं मै.🕉️ शांत है मै 📿 प्रलय भी हूं🕉️              धर्मी हूं मै अधर्मी का नाश भी हूं🕉️ अमृत हूं मै 🌟 विश भी मै हूं🕉️                   परमसत्य …

परम सत्य ✨-अंजू कँवर Read More »

शिव और विष-संध्या पण्डे

हमारे हिंदू धर्म में सावन के महीने का बहुत महत्व है। सावन के महीने को हिंदू धर्म मान्यता अनुसार सबसे पवित्र महीना माना जाता है। सावन का महीना श्रवण नक्षत्र से प्रारंभ होता है। सावन मास आषाढ़ के बाद आता है और चारों ओर हरियाली लिए हुए आता है। इस सावन के माह से ही …

शिव और विष-संध्या पण्डे Read More »

शिव स्वरूप -बीरेंद्र कुमार दुबे

नाम तुम्हारा जग में आला,भूत नाथ कहलाते तुम। चर -अचर,जड़-चेतन सबको,उसी भांति अपनाते तुम। सुख के साधक पाप विनाशक,रौद्र रूप अपनाते तुम। स्रष्टि सृजन हरण इसका,पल भर में दिखलाते तुम। डमडम डमरु का गर्जन,शशि मन्दाकिनी के धारक तुम। हाथ त्रिशूल जटा भयंकर,विषधर विष के ग्राहक तुम। तो शिव से प्यारा और न दूजा,इस जगत में …

शिव स्वरूप -बीरेंद्र कुमार दुबे Read More »

वंदन Poem by विश्वम्भर पाण्डेय ‘व्यग्र’

हे सत्य सनातनहे अनंतहे शिव भोलेहे जगत-कंत हे शक्ति नियंतासंघारकहे डमरू,त्रिशूलके धारक हे महादेवहे शिवा पतितव ध्यान मग्नसब योगी-यती ले अतुल भक्तिविश्वास धारमैं रहा आजतुझको पुकार मम् वंदन कोस्वीकार करोइस धरती केसंताप हरो… ***********         < p dir=”ltr”>-विश्वम्भर पाण्डेय ‘व्यग्र’           गंगापुर सिटी (राज.)

Join Us on WhatsApp