Notification

कबीर साहिब

जीवन के अगूण रहस्य – अजय दास & सौम्य दास

एक बार एक मेढक होता है , (असल मे मेढक को जिस परिस्तिथी में रखा जाए तो वो उसी के अनुरूप अपना व्यवहार बदल लेता है अथार्त सर्दी में उसके अनुरूप ओर गर्मियों में उसी के अनुरूप स्वयं को परिवर्तित कर लेता है) जो कि अपने ऊपर बहुत विस्वास करता है उसको लगता है कि …

जीवन के अगूण रहस्य – अजय दास & सौम्य दास Read More »

कबीर परमेश्वर जी के अनमोल वचन

आध्यात्मिक तत्व ज्ञान सुरति मूल ठिकाना जानो ।। कोई काया ब्रह्माण्ड में खोजे, कोई सुन्न ठहरावे। पिंड ब्रह्मांड दोउ से न्यारा ,कहु कैसे लख पावे।। बिना गुरु कहु कैसे पावे, फिर काया धर आवे। सार शब्द की सनद न पावे, फिर भवसागर आवे। गुरु जौहरी भेद बतावे, ओघट घाट लखावे। सुरति मस्तानी शब्द समानी, गुरु …

कबीर परमेश्वर जी के अनमोल वचन Read More »

कबीर परमेश्वर जी के अनमोल वचन

कबीर मन गोरख मन गोविंद, मन ही औघड़ सोय । जो मन राखै जतन करि, आपै करता होय ।। मन ही योगी गोरखनाथ है, मन ही भगवान है, मन ही औघड़ है अर्थात मन को एकाग्र करके कठिन साधना करने से गोरखनाथ जी महान योगी हुए, मन की शक्ति से मनुष्य की पूजा भगवान की …

कबीर परमेश्वर जी के अनमोल वचन Read More »

कबीर साहेब के द्वारा विभीषण तथा मंदोदरी को शरण में लेना

कबीर साहेब द्वारा विभीषण तथा मंदोदरी को शरण में लेना :- ??? परमेश्वर मुनिन्द्र अनल अर्थात् नल तथा अनील अर्थात् नील को शरण में लेने के उपरान्त श्री लंका में गए। वहाँ पर एक परम भक्त चन्द्रविजय जी का सोलह सदस्यों का पुण्य परिवार रहता था। वह भाट जाति में उत्पन्न पुण्यकर्मी प्राणी थे। परमेश्वर मुनिन्द्र …

कबीर साहेब के द्वारा विभीषण तथा मंदोदरी को शरण में लेना Read More »

कबीर परमेश्वर जी द्वारा गुरु महिमा अमृतवाणी

गुरु ते अधिक न कोई ठहरायी। मोक्षपंथ नहिं गुरु बिनु पाई।। राम कृष्ण बड़ तिहुँपुर राजा। तिन गुरु बंदि कीन्ह निज काजा।। गेही भक्ति सतगुरु की करहीं। आदि नाम निज हृदय धरहीं।। गुरु चरणन से ध्यान लगावै। अंत कपट गुरु से ना लावै।। गुरु सेवा में फल सर्बस आवै। गुरु विमुख नर पार न पावै।। …

कबीर परमेश्वर जी द्वारा गुरु महिमा अमृतवाणी Read More »

कबीर परमेश्वर की अमृतवाणी

कबीर परमेश्वर की अमृतवाणी कबीर, जिन हरि की चोरी करी, गये राम गुण भूल । ते विधना बागुल किये, रहे उर्धमूख झूल ।। कबीर परमेश्वर जी कहते है कि:- जो लोग मनुष्य जन्म पाकर सत् भक्ति नही करते वे बार बार गर्भवाश में आकर उलटे लटकते है तथा ऐसे जीवों के रुप में जन्म लेते …

कबीर परमेश्वर की अमृतवाणी Read More »

संत कबीर की अन्धविश्वास, पाखंड, भेदभाव, जातिप्रथा, हिन्दू ब्रह्माणवाद पर करारी चोट

संत कबीर के दोहे, हिन्दू और मुस्लमान के धार्मिक विचारो पर व्याख्यान जो तूं ब्रह्मण , ब्राह्मणी का जाया ! आन बाट काहे नहीं आया !! – कबीर (अर्थ- अपने आप को ब्राह्मण होने पर गर्व करने वाले ज़रा यह तो बताओ की जो तुम अपने आप की महान कहते तो फिर तुम किसी अन्य …

संत कबीर की अन्धविश्वास, पाखंड, भेदभाव, जातिप्रथा, हिन्दू ब्रह्माणवाद पर करारी चोट Read More »

सतगुरु दर्शन की महिमा कबीर साहिब जी की वाणी में(अमृतवाणी)

कबीर, दर्शन साधु का, करत न कीजै कानि | ज्यो उद्धम से लक्ष्मी, आलस मन से हानि।। कबीर, सोई दिन भला, जा दिन साधु मिलाय। अंक भरे भरि भेटिये, पाप शरीरा जाय।। मात-पिता सुत स्त्री, आलस बन्धु कानि। साधु दर्श को जब चलै, ये अटकावै आनि।। साधु भूखा भाव का, धन का भूखा नाहि। धन …

सतगुरु दर्शन की महिमा कबीर साहिब जी की वाणी में(अमृतवाणी) Read More »

साहेब कबीर जी आजा आत्मा तोहे पुकारती (शब्द कबीर परमेश्वर)

साहेब कबीर आजा आत्मा तोहे पुकारती । तेरे हाथ मेँ चाबी सतगुरु, सतलोक द्वार की ।।(1) 22 लाख वर्ष तप किना, इक तपस्वी कर्ण कहाया , तप से राज राज मद मानम , नर्क ठिकाणा पाया । सिर धुन धुन के पछताया , या थी बाजी हार की ।।( 2 ) साहेब कबीर आजा , …

साहेब कबीर जी आजा आत्मा तोहे पुकारती (शब्द कबीर परमेश्वर) Read More »

Join Us on WhatsApp