Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

घर पधारी सुनहरी परी – सचिन अ. पाण्डेय

घर पधारी सुनहरी परी
बरखा-सी इठलाती,
लोगों को हर्षाती;
सौम्यता भरी कलियों-सी,
घर पधारी सुनहरी परी|
माँ-बाप की यों दुलारी,
जीवन से ज्यादा प्यारी;
अंतर में सभी के बसती,
खुशियों का गीत रचती;
घर पधारी सुनहरी परी|
पढ़-लिखकर हुई सुशोभित,
ज्ञानसन्दूक किए अर्जित;
शिक्षा का पाठ पढ़ाती,
घर पधारी सुनहरी परी|
संघर्ष-भरे क्षण को भी,
मौका-ए-खास बनाती;
जिंदगी के विषाद को,
मुस्कान से यह हर लेती;
प्रेमभावी गुलशन संग लाती,
घर पधारी सुनहरी परी|
ज्यों विदा हुई पीहर को,
कैसे सँभाले पिता स्वयं को?
आज रुसवा हो गई उसकी,
घर पधारी सुनहरी परी|
 – सचिन अ. पाण्डेय
133 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
DishaLive Group

DishaLive Group

Hi, This account has articles of multiple authors. These all written by Sahity Live Authors, but their profile is not created yet. If you want to create your profile then send email to [email protected]

1 thought on “घर पधारी सुनहरी परी – सचिन अ. पाण्डेय”

  1. 130213 39726Wow, wonderful weblog layout! How long have you been blogging for? you make blogging appear straightforward. The overall appear of your web site is fantastic, as properly as the content! 630745

Leave a Reply

संविधान निर्माण में अग्रणी भूमिका निभानेवाले छग के माटीपुत्र-वीरेंद्र देवांगना

संविधान निर्माण में अग्रणी भूमिका निभानेवाले छग के माटीपुत्र:: ब्रिटिश सरकार के आधिपत्य से स्वतंत्र होने के बाद संप्रभु और लोकतांत्रिक गणराज्य भारत के लिए

Read More »

ताज होटल में जयदेव बघेल की कलाकृति अक्षुण्य-वीरेंद्र देवांगना

ताज होटल में जयदेव बघेल की कलाकृति अक्षुण्य:: 26 नवंबर 2008 को मुंबई के ताज होटल में हुए आतंकी हमले में वहां की चीजें सभी

Read More »

Join Us on WhatsApp