Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

व्यक्ति के दो रुप

किसी स्थान पर एक महान चित्रकार रहता था। एक बार उसने बाल कन्नहिया का चित्र बनाना चाहा। उसने अनेकोँ चित्र बनाए पर उसे एक भी पसंद नहीँ आया। वह उदास रहने लगा। पंरतु एक दिन रास्ते मेँ चित्रकार ने एक बहुत सुन्दर, मासूम, भोला, तैजस्वी, मनमोहक, बालक देखा। उसके देखते ही उसके मन मे क्रष्ण की वह छवी उत्पन्न हुई जिसकी उसे तलाश थी। उसने उस बच्चे को सामने बैठा कर उसका चित्र बनाया।
चित्र बहुत सन्दर बना और लोगोँ को पसंद भी आया। समय के साथ-साथ वह चित्र प्रसिद्ध भी हुआ।
कई वर्षोँ बाद…

उस चित्रकार ने एक कंश का चित्र बनाने की सोची। उसने कंश के अनेकोँ चित्र बनाए पर उसे एक भी पसंद नहिँ आया। वह उदास और निराश रहने लगा। एक दिन वो जेल के पास से गुजर रहा था।…

तब उसने देखा कि एक डाकू को दो सिपाही ले जा रहेँ हैँ। वह डाकू एक दम उसकी कल्पना से मिलता था। उसने सिपाहियोँ से अनुमती लेकर उस डाकू का चित्र बनाने लगा। जब चित्रकार चित्र बना रहा था तो डाकू…

एक दम से जोर के हँसने लगा। चित्रकार ने ङाकू से उसके हँसने का कारण पूछा। तो डाकू ने कहा कि कुछ वर्षोँ पहले उसने एक बाल किरष्ण का चित्र बनाया था। डाकू चित्रकार को याद दिलाया और सारी बातेँ बताई। चित्रकार ने आश्चार्य से डाकू से पुछा कि तुम ये सब कैसे जानते हो? डाकू ने कहा कि मैँ वहीँ बालक हूँ जिसका तुमने बाल किरश्न का चित्र बनाया था। चित्रकार स्तम्भ रह गया…॥The End॥
Moral: जो छवी हम किसी व्यक्ति के प्रति बनाते है यह सत्य नहीँ की वह व्यक्ति वास्तव मेँ उसी छवी का हो।
एक ही व्यक्ति मेँ दो रुप हो सकते है।

  • आशीष घोड़ेला
149 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Ashish Ghorela

Ashish Ghorela

उभरते हुए रचनाकारों और लेखकों को एक समृद्ध मंच प्रदान करने के लिए मैंने अपने सहयोगियों के साथ मिलकर 26 जनवरी 2017 को साहित्य लाइव की शुरवात की। जिससे उभरते हुए रचनाकारों का सम्पूर्ण विकास हो सके तथा हिंदी भाषा का प्रचार और विकास में वृद्धि हो सके। वैसे मैं हिसार (हरियाणा) का निवासी हूँ और दिशा-लाइव ग्रुप का संस्थापक हूँ।

6 thoughts on “व्यक्ति के दो रुप”

  1. 950992 918441Id should verify with you here. Which isnt something I often do! I take pleasure in reading a post that may possibly make folks feel. Additionally, thanks for allowing me to comment! 57112

Leave a Reply

ग़ज़ल – ए – गुमनाम-डॉ.सचितानंद-चौधरी

ग़ज़ल-21 मेरी ग़ज़लों की साज़ हो , नाज़ हो तुम मेरी साँस हो तुम , मेरी आवाज़ हो तुम मेरे वक़्त के आइने में ज़रा

Read More »

बड़ो का आशीर्वाद बना रहे-मानस-शर्मा

मैंने अपने बड़े लोगो का सम्मान करते हुए, हमेशा आशीर्वाद के लिए अपना सिर झुकाया है। इस लिए मुझे लोगो की शक्ल तो धुँधली ही

Read More »

Join Us on WhatsApp