Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

‘ जाग ‘जननी ‘जाग ‘-अजय-प्रताप सिंह-

मानव कितना सभ्य हो गया
यह तो मैं अब जाना हूं ।
क्या संगत का प्रभाव जगत में
अब जाकर पहचाना हूं ॥
वस्त्र विहीन असभ्य मानव था,
मुश्किल से तय किया सफर ,
आज सभ्यता विकसित है, ‘
वस्त्र विहीन नहीं होने दूंगा मैं ॥
माता ही प्राचीन काल से,
बच्चे का गुरु कहलाती है ।
निष्ठा ,सदाचार ,मानवता
और नैतिकता सिखलाती है ।
गर्वित गुण क्या लुप्त हो गए,
क्या पथभ्रष्ट हुई जननी,
जिम्मेवारी से हाथ झाड़ के,
हाथ नहीं धोने दूंगा मैं ॥
क्यों बच्चों में चंचलता ,
और कोमलता का ह्रास हुआ ।
माता यदि सही मार्ग पर है,
क्यों बच्चा अवगुण का ग्रास हुआ ।
अंधकार की गहरी खाई,
संस्कारों को डुबो चुकी ,
अंश शेष जो तैर रहे हैं,
उनको नहीडुबोने दूंगा मैं ॥
भावी भारत ऐसा होगा,
सोच के दिल घबराता है ।
उद्देश्य विहीन भटकता राही ,
ज्यों मंजिल नहीं चुन पाता है ।
धन लोलुप हो चुका है इतना ,
क्या कर दे कोई पता नहीं,
अंकुश अभी लगाना होगा,
अंकुश नहीं खोने दूंगा मैं ॥
कितनी लंबी रात्रि भले हो,
सूरज को उगना होगा ।
अलख जगाने आया हूं,
जन-जन को जगना होगा ।
भगिनी को अंधकार त्याग कर,
एक दिन तो भागना होगा,
बहुत खो चुके संस्कार खो ,
और नहीं खोने दूंगा मैं ॥
त्याग ,क्षमा ,गौरव, गरिमा
कुछ तो मां के प्रति बनता है ।
हुआ बहुत कुछ ,भूल गया सब
सोचा आखिर यह जनता है ।
हम भी सक्षम तुम भी सक्षम ,
द्वंद तभी तो ठनता है ।
संघर्ष त्याग दूँ ,अश्क बहाऊ,
क्या ऐसा भी होने दूंगा मैं ॥

113 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
ajai-pratap-singh

ajai-pratap-singh

My name is Ajai pratap Singh. M . A . B.Ed. 1996 ( c c s uni . Meerut ) Unemployed . I am a simple farmer.I lives in charora .I am p.t.a in siksha sadan inter College jatpura.

Leave a Reply

पर्यावरण-पुनः प्रयास करें

पर्यावरण पर्यावरण हम सबको दो आवरण हम सब संकट में हैं हम सबकी जान बचाओ अच्छी दो वातावरण पर्यावरण पर्यावरण हे मानव हे मानव पर्यावरण

Read More »

Join Us on WhatsApp