Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

जीत का जश्न-कमलेश गीतारी

टेक :- खिल गयो फूल है गयो हल्ला , सबको मिलि रहो चावल गल्ला | किसानो के आइ गये रुपैया , गठबंधन की डूबी है नैया ||
1- घर घर देकर गैस का चूला, मोदी बन गए रन के दूला
दीनदुखी सब करिलये अपने,विरोधी लगे हैं माला जपने
पर कोई न इनको बचइया, गठबंधन की डूबी है नैया |
खिल गयो फूल—————————————-||
2- समर भूमि में गरजे मोदी, भीगी बिल्ली बने विरोधी |
जवाब एक नहीं इनपर बनता, सबकुछ समझ चुकी है जनता
यों मिला है वोट मुहइया, गठबंधन की डूबी है नैया |
खिल गयो फूल—————————————-||
3- राष्ट्र धरम का देकर नारा, पाक को घर में घुसकर मारा
कांग्रेस की गीदड़ धमकी, पता नहीं मोदी के दम की
एक शेर ज्यायो मइया, गठबंधन की डूबी है नैया |
खिल गयो फूल—————————————-||
4- चक्राव्यूह मोदी को रचाया, चोकीदार कहि द्वंद मचाया
बिन मारे खुद गिरि गए धरनी, जैसी करनी वैसी भरनी
मन मुस्कावे कन्हैया, गठबंधन की डूबी है नैया |
खिल गयो फूल—————————————-||

                                                   गीतकार

कमलेश कुमार (गितारी) कठेरिया
ग्राम बिदरखा पोस्ट दखिनारा
फिरोज़ाबाद उ०प्र०
Mo No:- 8171409185

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp