Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

परछाई अतीत की-अजय-प्रताप सिंह

जले जो आग में बने चिंगारियां
क्या न गुजरी कौन जाने कैसी दुश्वारियां ।
बनाया चमन त्याग कर अपनी खुशी,
हजारों रंग बो डाले बनाकर क्यारियां ॥
खून अपना था अश्क माताओं बहनों के ।
त्याग दिल के टुकड़ोंके मोह तज गहनो से ।
खिलेगा खुशबू और शान को चार चांद देगा,
लोग देखा करेंगे नाज से आजाद फुलवरियाँ ॥
कुछ कोपलें पनपी न थी ,मुरझाने लगीं ।
कोपलों में कांटों सी चमक आने लगी ।
झाड़ बन न जाए सोच कर दूर किया,
भुनाया सभी ने अपना हुनर देख लाचारियॉ ॥ बेरुखी झेलकर चमन यूही खिलता रहा ।
इत्र महकेगा यूं ही संदेश उन्हें मिलता रहा ।
अधूरी आस में तड़पते देह त्यागी,
आश्वस्त – हो विश्वास में पाते रहे गद्दारियां ॥
गए जो त्यागकर चोलाअमर है आत्मा उनकी ।
अधूरी थी अधूरी रह गई हर ख्वाहिश उनकी ।
तड़पती इत्र की फिराक में है बेचैन आत्मा ,
यहां तो खिल रही तेजाब की फुलवारियां ॥ आह हर सांस से निकली थी, हर सांस से निकलेगी ।
चैन से रह न सकोगे ‘ लाश हर आस की निकलेगी ।
लिया है कर्ज ,तो अदा करना होगा,
महक में इत्र हो , ऋण मुक्त हो ,करो तैयारियां॥

138 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
ajai-pratap-singh

ajai-pratap-singh

My name is Ajai pratap Singh. M . A . B.Ed. 1996 ( c c s uni . Meerut ) Unemployed . I am a simple farmer.I lives in charora .I am p.t.a in siksha sadan inter College jatpura.

Leave a Reply

संविधान निर्माण में अग्रणी भूमिका निभानेवाले छग के माटीपुत्र-वीरेंद्र देवांगना

संविधान निर्माण में अग्रणी भूमिका निभानेवाले छग के माटीपुत्र:: ब्रिटिश सरकार के आधिपत्य से स्वतंत्र होने के बाद संप्रभु और लोकतांत्रिक गणराज्य भारत के लिए

Read More »

ताज होटल में जयदेव बघेल की कलाकृति अक्षुण्य-वीरेंद्र देवांगना

ताज होटल में जयदेव बघेल की कलाकृति अक्षुण्य:: 26 नवंबर 2008 को मुंबई के ताज होटल में हुए आतंकी हमले में वहां की चीजें सभी

Read More »

Join Us on WhatsApp