वाह मोदी जी.. ! वाह….! – राजेश कुमार

वाह मोदी जी.. ! वाह….! – राजेश कुमार

मोदी जी, मुझे आप पर बहुत क्रोध आता है। एक पत्नी उसको भी आपने देश की खातिर त्याग दिय……….! संतान भी उत्पन्न नहीं की ताकि आपका स्नेह गृहस्थ जीवन में वितरित न हो जाए। आपने अपना सम्पूर्ण जीवन और यौवन भारत माता के श्रीचरणों में समर्पित कर दिया। आप मात्र 6 घण्टे विश्राम करते हैं।
Complete Reading

मुश्किल में हैं भारत के नागरिक – चन्दन कुमार

यही सोचता रहता हूँ मैं अकेले में हरपल कैसा होगा हमारा तथा भारत का आनेवाला कल आपस में टकराते हैं इतने सारे चुनावी दल और चारो तरफ फैला हैं पार्टियों का दल-दल पडोसी देश चीन तरक्की के शिखर पर और हम भारतीय झेल रहे हैं गरीबी हरपल ऐसा हैं हमरा बिहार और हमारा सरकार अनपढ़
Complete Reading

“सत्ता सुख” – राजेश कुमार

साथियों नमस्कार……………… आज मैं आपसे “सत्ता सुख” के संदर्भ में वार्ताएं करने का इच्छुक हूँ। इस भौतिक जीवन में सुख ‘कई प्रकार के होते हैं परन्तु राजनैतिक “सत्ता सुख” अपने आप मैं एक अद्वितीय सुख है। दोस्तों, शराब का नशा दो – तीन घंटे…..भांग का नशा एक दिन……गांजा/ चरस /हेरोइन का नशा दो दिन तक
Complete Reading

तुम नोट बंदी की ब्लैक मनी – नेहा श्रीवास्तव

जीवन के संघर्ष मे नही थोड़ा भी रिलैक्स प्रिये, आया हूँ ऑफिस से कुछ खिलाओ स्नैक्स प्रिये. मै सीधा सरल ईमेल सा तुम जटील फैक्स प्रिये. तुम बॉलीवुड की मूवी सी मै तुम्हारा क्लाइमेक्स प्रिये. करती हो तुम हरदम मनमानी मै सीधा- साधा सरल सा, तुम नोटबंदी की ब्लैक मनी मै तुम्हारा इंनकमटैक्स प्रिये. नेहा
Complete Reading

फिर मुझको लौटा दो बचपन का सावन – नीलम सोनकर

कच्चे नीम की निबौरी, सावन जल्दी आइयो रे अम्मा दूर मत कीजौ, दादा नहीं बुलवेंगे भाभी दूर मत कीजौ, भैया नहीं बुलावेंगे प्रकृति का उल्लास है सावन | इस मौसम में प्रकृति अपना रंग रूप जिस तरह परिवर्तित करती वह सभी का मन मोह लेती | सावन का नाम सुनते ही मन वर्षा ऋतु के
Complete Reading

द सीक्रेट सैंटा – निशांत कुमार “नयन “

“सांता  आएगा..सांता  आएगा  सबको  पता  है  क्या  आएगा पात्र – 1-रवि 2-मिथुन 3-शिखा 4-रूही 5- Mr .सांता 6- वक़्त 7-गेस्ट अपीयरेंस -श्रेयस तलपड़े तो शुरुआत यहाँ से करते है -हम सभी जानते है की अभी क्रिसमस का टाइम चल रहा है और हर कोई के जुबान पे बस एक ही बात है की इस बार
Complete Reading

जिंदगी के झरोखे – शशि जैन

निशा ये रोज़ रोज़ के देखने दिखाने के सिलसिले से तंग आ चुकी थी। कल फिर कोई जनाब उसका मुआयना करने आने वाले थे। अभी अभी उनके यहाँ से ही फ़ोन था। निशा ने आई डी कॉलर में नंबर देखा और आव देखा ना ताव , मिला दिया लेकिन उधर से एक दबंग सी महिला
Complete Reading

नाम कमाएगा बालक – वीरेंद्र देवांगन

जब मुझ अभागे के घर बेटा पैदा हुआ, तो मैं खुशी से झूम उठा। जश्न मनाया; मिठाई बाॅंटा; फटाखे फोड़ा। वक्त गुजरता गया और मैं खेती-किसानी में मशगुल होता गया। फसलों की बुआई, निंदाई, गुड़ाई और कटाई; बैलों की सानी-पानी, खेतों में खाद और घर-गृहस्थी के जंजाल में इस कदर खोया कि मुझे पता ही
Complete Reading

Funny Story of Hritick Roshan in Hindlish by Saurabh Kaithwas

Hello dosto, Ek GUJAARISH hai aap sab se.. Akhir sab ko pta hai ki ye ZINDAGI NA MILEGI DOBARA. isliye apne aap ko is KAABIL banaiye ki aap apne LAKSHYA tak pahuch jaaye. Bhale hi aapko AGNEEPATH par chalna pade.. So ek din mai akela baitha asman ki taraf dekh rha tha, saamne waali padosan
Complete Reading

ONCE UPON A TIME IN MUMBAI-2 :: Funny Story of Akshay Kumar

Wahan mera ek PATIALA HOUSE tha. Ek din MAIN ITNA TANHA TANHA LONELY LONELY baitha tha, achanak bell baji to dekha mere BROTHERS aur kuch friends the.. Maine sabka WELCOME kiya. Mera birthday tha so  umne PARTY ALL NIGHT ki. Ghar pura HOUSEFULL tha DESI BOYZ se. . Agle din sab chale gaye. Subah subah
Complete Reading

Create Account



Log In Your Account