नवीनतम ग़ज़ल

👏 मेरा देश फल... मेरा नाम 👏
Amit Kumar prasad
इस राष्ट्रवाद कि बगीयां के, कुसमित पुष्पों का नाज़ अज़र! ये ध्वज नहीं संघर्ष हिन्द का, ज़हां लोकतंत्र का नाम अमर!!
49843
Date:
05-07-2022
Time:
09:33
ग़ज़ल
Abhinav chaturvedi
जीने के तौर-तरीके मिलने से, अज़िय्यत नही मिला करते हैं। दो चेहरे एक से मिलने से, नियत नही मिला करते हैं। सिलसिला-
49434
Date:
05-07-2022
Time:
10:52
ਗ਼ਜ਼ਲ
Jogi Bhutal
ਗ਼ਜ਼ਲ ਤੂੰ ਇਸ ਤਰ੍ਹਾਂ ਨਾ ਮੈਨੂੰ ਨਜ਼ਰ ਅੰਦਾਜ਼ ਕਰ ਆ ਬੈਠ ਦਿਲ ਦੇ ਤਖ਼ਤ ਤੇ ਅਤੇ ਰਾਜ ਕਰ ਨਾਗਣ ਵਾਂਗ ਹੈ ਡੰਗ ਰਹੀ ਹਰ ਅਦਾ ਤੇਰੀ ਨਾ ਜਲਵ
47880
Date:
05-07-2022
Time:
12:15
💖 अमन विश्व का तारा ✍️
Amit Kumar prasad
ऐ ज़मी शाहे वतन, आप पे दिल कुरबान है! कुरबान ज़ान भी गुल को तेरे, जिससे वतन गुलज़ार है!! है नुतन प्रभा का यह
47567
Date:
05-07-2022
Time:
11:05
💖 अमन विश्व का तारा ✍️
Amit Kumar prasad
ऐ ज़मी शाहे वतन, आप पे दिल कुरबान है! कुरबान ज़ान भी गुल को तेरे, जिससे वतन गुलज़ार है!! है नुतन प्रभा का यह
47567
Date:
05-07-2022
Time:
11:05
🙏 शांती - बीज ✍️
Amit Kumar prasad
कर रही गुलज़ार कलीयां, आपके ही नाम से! ये बना है पाक - स्थल, सारे जहां के धाम से!! ले रहा था नाम हरदम,
2227
Date:
05-07-2022
Time:
11:29
दिल कुछ कहना चाहता है
Poonam Mishra
यह वक्त भी गुजर रहा है इस गुजरते वक्त से दिल कुछ कहना चाहता है जो तुम मुझे आजमाते रहे जिंदगी के हर एक मोड़ पर दि
41458
Date:
05-07-2022
Time:
08:45
अपना बना कर तो देखो
Amrita shrivastav
किसी को अपना बना कर तो देखो फिर दर्द क्या होता हैं जान जाओगे! किसी के साथ रह कर तो देखो फिर साथी क्या होता हैं जान ज
40712
Date:
05-07-2022
Time:
10:14
मेरा माँ के आँगन से,ये शहर छोटा लगता है
ADARSHPANDEY
मेरी माँ के आँगन से , ये शहर छोटा लगता है। मेरी माँ के दीपक से, ये सूरज फीका लगता है।। हम लाख कमा ले दुनिया में ,मनचा
39139
Date:
05-07-2022
Time:
11:34
उसका नाम
राहुल गर्ग
संमुदर पायाब हो गये और नदियाँ उफान पर है पर अभी तक उसका नाम मेरी जबान पर है  उसने अपने तरकस के सारे तीर छोड़ दिये म
34471
Date:
05-07-2022
Time:
11:30
आगाज़
Ramu kumar
आइए बैठकर कुछ बात किया जाए' दिले कशमकश को समाप्त किया जाए! दूरियां नजदीकियां कुछ भी नहीं रहा' अब एक नई मंजिल त
33130
Date:
05-07-2022
Time:
06:54
यह कर पाओगे क्या
Ritu
कुछ बताना है तुम्हें मेरे बिना बोले सुन पाओगे क्या इश्क होने का दावा करते हो तुम अगर मैं कभी मजबूर हुई तब अकेले नि
33163
Date:
05-07-2022
Time:
11:37