Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

पागल लड़की- भंडारी लाकेश

एक पागल सी लड़की है
जो बात बहुत ही करती है
में रूठ भी जाऊं इक पल को
बरसात बहुत ही करती है
वो हंसती है तो फूलों में
खुशबू सी खिल उठती है
रोती है तो बारिश भी
रिम झिम करके बरसती है
वो गाती है तो सरगम भी
सुर तालों में सज उठती है
और मौन रहे तो लब्ज़ो को
दुनिया तरसती है
वो शरमाती तो छाँव भी
संध्या सी झुक जाती है
और खोले वो पलक अचानक
तो किरणें रूप दिखाती हैं
वो हंसती है वो गाती है
सवाल बहुत ही करती है
बस पागल सी लड़की है
जो बात बहुत ही करती है

45 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
bhandari-lokesh

bhandari-lokesh

b.sc mathematics (rajasthan university) b.ed (maths+chemistry) m.sc mathematics (ms brij university)

Leave a Reply

इश्क पर दोस्ती का चेहरा है- दीप्ती यादव

इश्क पर दोस्ती का चेहरा है घाव देखो ये कितना गहरा है सुन के सब की जो पंहुचा मन्जिल पे शख्श वो असलियत में बहरा

Read More »

दोस्ती- बलराम सिंह

मै यादौ की पुस्तक खोलू तो,बचपन की लम्हा घोलू तो एक यार दिखाई देता है,एक प्यार दिखाई देता है। वो दिन भी क्या दोस्ताना था,मिल

Read More »