Notification

धरती पुत्र के सपनो का हत्यारा कौन – आपदा या लोकतंत्र ‘ बेरोजगारी का जिम्मेदार कौन – युवा या सरकार -अजय-प्रताप सिंह

रहस्यमई समस्या ‘ अतिवृष्टि ‘
अनावृष्टि ,महामारी, बेकारी ।
आदिकाल से आज तलक बनी
क्यो है , पृकृति की लाचारी ॥

कितनी ही सरकारे आईं,
उत्कृष्ट ,दिव्य योजना लाई,
मगर एकभी पूर्णरूप से,
नही भूमि पर गई उतारी ॥

नौकरशाहों का अंकुश है,
शायद सब सरकारों पर ।
नेताओं पर ,जनता पर ,
बेबस और लाचारो पर ॥
घिसे ऐडियां सज्जन लोग ,
लाभ रसूखी पाते है ,
लाभार्थी बनते है दबंग ,
पृतिष्ठित , उद्दंडी , व्यापारी ॥ …..

खाना मुफ्त का ,किताब ,इलाज,
बिना परीक्षा की डिग्री ।
कर्तव्यहीन गरीब मरीज
विद्यार्थी की बेफ्रिकी ॥
कैसे देश की हालत बौहरे ,
एक देश में शासन दोहरे ,
या तो होते व्यक्तिगत सब ,
या सब होते सरकारी ॥ ….

सरकारों का दोष कहाँ ,
सरकारी निर्दोष कहाँ ।
एंटीरोड वही मिलता है,
पनपा होगा रोग जहाँ । ।
पृकृति से प्रजातंत्र ,
तानाशाही ,राजतंत्र , सब कमजोर,
दोषी हैं हम ,तंत्र हमारे,
राजनीति ,लापरवाही ,सरकार हमारी ॥ …..

कृषि ‘ प्रधान ‘ देश भारत ,
फिर क्यों पिछडी कृषि बिचारी ।
सारे मैम्बर चिल्लाते हैं,
होगी अब सरकार हमारी । ।
खड़ा अवाक् , देखता शून्य को,
कृषिजीवी यह धरतीपुत्र ,
कौन नीति का एंटीरोड ,
बचा सकेगा प्रजाति हमारी ॥ ….

Leave a Comment

Connect with



Join Us on WhatsApp