Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

धरती पुत्र के सपनो का हत्यारा कौन ?? लोकतंत्र या आपदा-बलराम-सिंह

हमारा देश भारत कृषि प्रधान देश है यहां सत्तर से पचहत्तर प्रतिसत खेती होती हैं जिनमें आधिक मात्रा में छोटे वर्ग के किसान है जिनका जीवन यापन का मुख्य स्रोत खेती पर ही निर्भर करता है
उनका हरेक सपना खेती से जुड़ा है जैसे अच्छे मकान, बेटे बेटियां की अच्छी स्कूल में दाखिला,ऐसे तमाम तरह के सुख सुविधाएं जो खेत के अच्छी फसल पर निर्भर करता है और अच्छी फसल तब होगी जब खेती के लिए अच्छी साधन हो जैसे पानी के लिए नहर, ट्यूबेल, खाद,अच्छी ,बीज ,खेत जोतने के लिए ट्रेक्टर ऐसे तमाम तरह के सुविधाएं ।
लेकिन ये सब सुविधाएं तो बड़े किसानो के लिए बहुत ही आसानी से मिल जाते हैं क्यों की उनके पास पैसे होते हैं और नहीं भी होते हैं तो वे बैंक से लोन लेकर अपना काम चला लेते हैं।
पर जो छोटे किसान जिनके पास दो चार एकड़ ही जमीन होते हैं उनका तो भगवान के भरोसे ही सब काम होता है, कैसे भी करके अगर खेत जुता लिए तो बीज की चिंता रहती,अगर बीज हो भी गए तो पानी के लिए मानसून पर निर्भर रहते हैं अगर पानी हुई तो फ़सल अच्छी,नहीं हुई तो फसल जल जाएगी, और अधिक बारिश हो गई तो सब फसल बर्बाद अगर सब कुछ ठीक रहा तो फसल की उचित मूल्य नहीं मिल पाता है किसान करे तो क्या करे अगर बैंक से लोन लेते हैं तो फसल अच्छी होने पर ही लौटना मुमकिन है अंथा कर्ज के बोझ तले किसान इतना दब जाता है कि उनके पास आत्महत्या करने के सिवा कुछ नहीं बचता
और इनके लिए ज़िम्मेदार लोकतंत्र है,सरकार मै मानता हूं कि आपदा से सबसे ज्यादा नुकसान किसान का होता है परन्तु जब से ये देश आजाद हुआ है तब से लेकर आज तक कोई भी सरकार किसान के लिए संतोष जनक काम नहीं किया है हमारे पूर्व प्रधान मंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी ने कहा था कि जय जवान जय किसान उन्होंने कहा था कि जैसे हमारे देश के जवान सीमा के रक्षा के लिए ताकत वर होना जरूरी है उसी तरह हमारे देश के किसान को भी खेती के लिए आर्थिक और साधन के दृष्टि से मजबूत होना जरूरी है,जैसे जवान के विना देश नहीं चल सकता उसी प्रकार किसान के विना देश नहीं चल सकता।
इसी लिए लोकतंत्र में सरकार किसी का हो उनका फर्ज बनता है कि जो आपदा से
किसानों का नुक़सान हुआ है उसका उचित भरपाई करे और किसानो को खेती के लिए जो साधन की अति आवश्यकता हो उसके लिए जल्द से जल्द कोई ठोस कदम उठाए
जिससे किसान के सपना साकार हो और इसी तरह खुशी खुशी देश के प्रगति के लिए मेहनत करते रहे

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp