Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

सागर-अंशु कुमत

सागर के उस पार किन्ही लम्हों को डूबते देखा था
आज भी वो किस्से याद आते हैं
जब तेरी परछाईं को उगते सूरज से पहले देखा था

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp