Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

साक्षात्कार-साथी – टी

मैं एक बर्तन हूं
कर्म करके मेरे शरीर पर
मालिन्य पड़ गया।
मालिन्य के निवारण के लिए
मेरे शरीर पर मिट्टी का
लेपन किया ।
जब यह पानी से धोया तो
मैं जगमगा जैसे सोना ।
यह मालिन्य ‘गंदे मन’ है,
मिट्टी का लेपन ‘ कर्मानुष्ठान ‘है,
धोए हुए पानी ‘ भक्ति’ है,
‘ज्ञान से जगमगा है।
परमात्मा का साक्षात्कार भी
हो गया ।

  • डॉ सती गोपालकृष्णन
95 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Sathi-T

Sathi-T

Iam Dr Sathi Gopalakrishnan (डॉ सती गोपालकृष्णन)working as a Hindi councillor-IGNOU and aajivan Hindi pracharak DBH P Sabha , Madras.30 yrs teaching practice. Qualification:MA, MPhil.PhD(Hindipoetry) My publishe'd book is " Punyasabhalya " and that is a poetry collection. Address: Vadakath House Vellaloor Post: kumaranellur Dist.palakkad Kerala. pin.679552

Leave a Reply

जागो और अपने आप को पहचानो-प्रिंस स्प्तिवारी

मैंने सुना है कि एक आदमी ने एक बहुत सुंदर बगीचा लगाया। लेकिन एक अड़चन शुरू हो गई। कोई रात में आकर बगीचे के वृक्ष

Read More »

Join Us on WhatsApp