मुर्ख बनाने में उलझे हुए होते है – दिशा शाह

मुर्ख बनाने में उलझे हुए होते है – दिशा शाह

आज के समय में ९५% लोग हर किसी को मुर्ख बनाने में ही उलझे हुए होते है . लोगो को बस अपना फ़ायदा ही नजर आता है और दूसरे को मुर्ख बनाने में ही लगे हुए होते है . इससे वो लोग को लगता है की वो ही समझदार है ,बाकि सब मुर्ख है ,
Complete Reading

युवा विजय- मंगल प्रताप चौहान

शिक्षा एवं शिष्टाचार के संकल्पना से शिक्षार्थियों में, ज्ञान की ज्योति विवेकानंद जलाया आपने। पढ़ लिखकर बनेंगे यहीं बालक देश के नवनिर्माणकर्ता, ऐसा पदचिन्हित मार्ग विवेकानंद दिखाया आपने।। मंगल प्रताप चौहान सोनभद्र उतेर प्रदेश 1+

क्यों बतमिज होते हैं – दिशा शाह

कोई लड़का हो या लड़कि हो ,या कोई भी हो, वो बत्तमीज क्यों होते है ?क्योंकि उसको अच्छे संस्कार नहीं दिए जाते है . आज अगर संस्कार १००% हो तोह स्वाभाविक बत्तमीज हो ही नहीं सकते है. आज के रोजी ज़िन्दगी में माता पिता अपने बच्चे की सब ख्वाइश पूरी कर देते है , जो
Complete Reading

दुनिआ का सबसे अनमोल रिश्ता – दिशा शाह

आज की बढ़ती ज़िन्दगी में सच्चे दोस्त मिलना मुश्किल हो जाता है , क्यों की सबंध में स्वार्थ होता है, वहा दोस्ती की गुंजाइस ही नहीं होती है . लेकिन आज के समय पर भी अच्छे दोस्त मिलते है . दोस्ती कब होती है जब समझदारी दोनों तरफ से १००% हो कोई ई स्वार्थ की
Complete Reading

बचपन की ज़िन्दगी – दिशा शाह

बचपन की ज़िन्दगी कैसी होती है , कोई रोक टोक नहीं , कोई तनाव नहीं , सब लाड़प्यार करते है . बस खुशी ही खुशी चारो ओर . जैसे हम बड़े होते जा रहे है, हमारे अंदर बचपना खत्म होते जा रहा है . हम जब बच्चे होते थे ,तब ही हमारा बचपना हमारे साथ
Complete Reading

सोच की क्षमता – दिशा शाह

आज के समय में क्यों सबंध में १००% दोनों में समझदारी नही होती है? क्योंकि लोग सोचते ही नहीं है . समझते ही नहीं है ,दुसरो को बुरा लगा हो या ,नहीं कुछ सोचते ही नहीं है . इसलिए सबंध में समझदारी का आकार कम हो जाता है ,फिर सबंध पहले जैसा नहीं होता है
Complete Reading

भोलापन – दिशा शाह

आज के समय में भोलापन होना अच्छी बात नहीं होती है. क्योंकि लोग आप की अच्छाई का फ़ायदा उठाने में लगे होते है . अच्छा होना बुरी बात नहीं होती है . आप को पहले समझ होनी जरुरी होती है सही और गलत इंसान में . कहने का मतलब ये है की हम ऊँगली पकड़ाते
Complete Reading

सच्चा प्यार – विजय भवर

प्यार उनसे करो जो तुमसे प्यार करता हो उही किसी की तरफ देखकर हँसने का क्या मतलब और प्यार करो तो सच वाला करो उही किसी का दिल दुखाने से क्या फायदा. विजय भवर औरंगाबाद महाराष्ट्र 0 अपने बिज़नेस को दें एक नई पहचान! आज ही बनवाये प्रोफेशन वेबसाइट मात्र 499/- रुपयों में। DishaLive Web
Complete Reading

जातिवाद – हेमा पाण्डेय

मुसलमानों की आतंक से दुखी होकर मुसलमानों पर सबसे अधिक जुमला करने वाले देश * ■■■■■■■■■■■■■■■■■■■ 1 – चीन: – * रोजा, रमजान, दाढ़ी, बुर्खा सब प्रतिबंधित। * 2 – म्यांमार: – * मुसलमान को देखकर मारने के आदेश, मस्जिदें लगभग सभी गिर गए थे 3 – जापान: – * इस्लाम बंदी, इस्लाम का प्रचार
Complete Reading

खुशबु की महक – पूजा कुमारी

फुलो की खुशबु मै ना जाने यह कैसा एहसास होने लगता हैं| लगता है दिन ओर रात दोनो का एहसास यह खुशबु मै ही होता हैं| बर्षा हो या पत्थर गिरे यह खुशबु का एहसास नही रूकता हैं| पत्झर का इकरार होने लगता हैं| फुलो मै सुगंध है खुशबु मै एहसास जिदंगी है या नही|
Complete Reading

Create Account



Log In Your Account