अनमोल वचन – होम कृषण राज

अनमोल वचन – होम कृषण राज

अदभूत करिश्मा इन सुबह की हवाओं में है ,
अनोखी रंगत दिल की फिजाओं में है|
कुछ किये बिना किसी को कुछ नहीं मिल रहा यहां ,
निशां हमारे भी पिछे छूटती राहों में है ||

होम कृषण राज

Ravi Kumar

मैं रवि कुमार गुरुग्राम हरियाणा का निवासी हूँ | मैं श्रंगार रस का कवि हूँ | मैं साहित्य लाइव में संपादक के रूप में कार्य कर रहा हूँ |

Visit My Website
View All Articles

I agree to Privacy Policy of Sahity Live & Request to add my profile on Sahity Live.

0

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account



×
नमस्कार जी!
बताइए हम आपकी क्या मदद कर सकते हैं...