Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

असीम आसमां – गौरव किशोर सक्सेना

दोस्तों जीवन के भी कितने पहलू होते है किस पल कोन सी घटना घटित हो जाये पता ही नही चलता ! हर बार बाजी हमारे हाथ में नही होती है पर जीवन को जीना ही पड़ता है आसमां असीम है जीवन को जीने के नये तरीके खोजना चाहिए हर पल सकारात्मक सोच लेकर चलना चाहिए ! आज के समय में लोग इतना नकारात्मक सोचने लगे शायद वो ऐसे ही पैदा हुए ! परिश्थिति हमेशा बदली है और इन्सान को अच्छे समय का इंतजार करना चाहिए बुरे समय में क्रोध कम करना चाहिए बुरा समय ही अच्छे अनुभव करवाता है सोच आपकी है जैसा आप सोचे और वेसे भी अच्चा सोचने पर टेक्स नही लगता पर गलत सोचना या नकारात्मकता लाना हमेशा नुकसान दायक होता है इसलिए सोच का दायरा बड़ा करो अपने आप को उन सब बातों से उपर रखो जो आपको नीचे धकेलने का प्रयास करती है और अपनी मंजिल की और लगातार बड़ते हो सफलता जल्द ही आपके पास होगी !
कृपया कमेंट जरुर करें

Gaurav Kisho Saxenaगौरव किशोर सक्सेना
देहगांव रायसेन (मध्य प्रदेश)

163 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Ravi Kumar

Ravi Kumar

मैं रवि कुमार गुरुग्राम हरियाणा का निवासी हूँ | मैं श्रंगार रस का कवि हूँ | मैं साहित्य लाइव में संपादक के रूप में कार्य कर रहा हूँ |

1 thought on “असीम आसमां – गौरव किशोर सक्सेना”

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp