Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

आज फिर एक बेटी लाश बन गयी-बलकावी-जय-जितेंद्र

आज फिर एक बेटी लाश बन गयी।
हैवानो के हवस की शिकार बन गयी।।

क्या अब हमारे देश में बेटियाँ सुरक्षित नहीं।
क्या अब भी सरकार बिल्कुल लज्जित नहीं।।

इसके जैसे न जाने कितनी बेटियाँ मरी हैं।
बेटियों के साथ-साथ अब तो माँए भी डरी हैं।।

इन दरिन्दों को बीच चौराहे में लटकाया जाए।
सख्ती कार्यवाही का अस्वासन न फ़रमाया जाए।।

हो ऐसा अंजाम कि देख दरिन्दों के रूह कांप जाए।
जब चन्द नेता खड़े हो जाये बचाव में तो कहाँ मजबूर बाप जाए।।

ऐसे लुच्चे-लफ़ंगो को जीने का कोई अधिकार नहीं।
दिला सकते यदि न्याय नहीं तो सरकार तुम्हारी स्वीकार नहीं।।

   ~बालकवि जय जितेन्द्र
     रायबरेली (उत्तर प्रदेश)

    #Justiseformanisha
159 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype

Leave a Reply

पर्यावरण-पुनः प्रयास करें

पर्यावरण पर्यावरण हम सबको दो आवरण हम सब संकट में हैं हम सबकी जान बचाओ अच्छी दो वातावरण पर्यावरण पर्यावरण हे मानव हे मानव पर्यावरण

Read More »

Join Us on WhatsApp