जरुरत मंद लोग – दिशा शाह

जरुरत मंद लोग – दिशा शाह

हमें जरुरत मंद लोगो की मदद करनी चाहिए . हम कितने भी बड़े हो जाए, कितने भी पैसा वाले हो जाए . हमें बदलना नहीं चाहिए . हम जैसे थे वैसे ही बने रहना चाहिए .हमें किसी की परिस्थिति का मजाक नहीं बनाना चाहिए . जब भी हमारे पास सही में कोई जरुरत मंद लोग मदद मांगने आए तोह हमें मदद करनी चाहिए .हमें ठुकराना नहीं चाहिए . हम कितने भी अरबो कमा ले. हमें कभी भी गरीबो ,मिडिल क्लास किसी का भी मजाक नहीं बनाना चाहिए . ये बात गलत होती है किसी को निचा दिखाना , मजाक बनाना . हम भूल जाते है की कल हम भी वो ही परिस्थिति से / में गुजरे थे . बहुत गरीबो को तोह ठीक से खाना भी नहीं मिलता. कितनो के घर भी नहीं होते फुटपाथ में रहेना पड़ता है. गर्मी, बारिस, ठंडी ,इन हालतो में क्या गुजरती होगी उन लोगो पर .
हम भी एक इंसान है वो भी एक इंसान है. हमें इंसानियत रखनी चाहिए . हमें वैसा बनना चाहिए की किसी के काम आ सके . किसी जरुरत मंद के काम आ सके .उसके चेहरे पर मुस्कुराहट ला सके .

साहित्य लाइव रंगमंच 2018 :: राष्ट्रीय स्तर पर हिंदी प्रतियोगिता • पहला पुरस्कार: 5100 रुपए राशि • दूसरा पुरस्कार: 2100 रुपए राशि • तीसरा पुरस्कार: 1100 रुपए राशि & अगले सात प्रतिभागियों को 501/- रुपये प्रति व्यक्ति

दिशा शाह
पक्षिम बंगाल

जरुरत मंद लोग – दिशा शाह
4 (80%) 5 votes

साहित्य लाइव रंगमंच 2018 :: राष्ट्रीय स्तर पर हिंदी प्रतियोगिता • पहला पुरस्कार: 5100 रुपए राशि • दूसरा पुरस्कार: 2100 रुपए राशि • तीसरा पुरस्कार: 1100 रुपए राशि & अगले सात प्रतिभागियों को 501/- रुपये प्रति व्यक्ति

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account