Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

पांच सालो पर एक सवाल-मनदीप सिंह

देखिये मैं आज तक किसी सरकार के खिलाफ नहीं बोला मुझे हर वक्ती अच्छा लगता , दूसरी बात सरकार कोई भी आये ,कई बार तो सरकार बनते ही देश को लूटना शरू और कई , पहले पर्दा बनाते हैं उसके बाद लुटते हैं ,ये तो चलता ही आ रहा हैं ,रही बात मोदी सरकार की , पहले देस के हित में ही था , पर अब इसे अपना पर्दा गिरता नजर आ रहा है , तो किसानो के पेट पर लात मारके कौनसी जगं जीत रहा है , पहले मैं सोचता था जो सरकार कर रही है ठीक कर रही है , पर किसान तो पहले कमजोर था अब , सरकार उससे खून मांग रही है , जो कभी किसी नहीं बूरा बोलता था , उसे भी सरकार नें बोलने पर मजबूर कर दिया

73 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
mandeep-singh

mandeep-singh

मैं एक फिल्म राइटर हूं एक प्रोफेशनल राइटर बनने का संघर्ष कर रहा हूं और एक दिन बन कर ही रहूंगा मैंने 10th क्लास पास की है और आगे पढ़ने के लिए स्कूल में ना जा सका कोई मजबूरी थी जिसके कारण मजबूरी आपको कहां-कहां बताऊं और हमारा पढ़ने का टाइम शाम को 9:00 बजे से रात को 1:00 बजे तक क्योंकि दिन में हम किसी और काम में बिजी होते हैं राइटिंग के शौक ने आज हमें हमारी मंजिल तक पहुंचा दिया जिस तक हमने पहुंचना था I am a film writer, I am struggling to become a professional writer and I will remain one day, I have passed 10th class and there was no compulsion to go to school to study further, due to which the compulsion can tell you where and our Reading time from 9:00 in the evening to 1:00 in the night because we are busy with some other work in the day. The hobby of writing has brought us to our destination, which we had to reach.

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp