व्रत (उपवास) – अनिल कुमार सागर

व्रत (उपवास) – अनिल कुमार सागर

मित्र के साथ नाश्ता करने होटल पहुंचा तो देखा एक व्यक्ति नौकर को गालियाँ दे रहा था। बाद में ज्ञान हुआ कि उस व्यक्ति का उपवास चल रहा है! नौकर चाय लेकर गया तो चाय ठंडी हो गई थी!अतः वह गरम हो रहे थे! मित्र बोले ” ऐसे व्रत से क्या लाभ? जब वाणी पर ही संयम नहीं तो शेष इन्द्रियां क्या वश में रहें गी?किसी गरीब का दिल दुखाना से बढ़कर पाप तो विश्व में नहीं है

साहित्य लाइव रंगमंच 2018 :: राष्ट्रीय स्तर पर हिंदी प्रतियोगिता • पहला पुरस्कार: 5100 रुपए राशि • दूसरा पुरस्कार: 2100 रुपए राशि • तीसरा पुरस्कार: 1100 रुपए राशि & अगले सात प्रतिभागियों को 501/- रुपये प्रति व्यक्ति

अनिल कुमार सागर
संभल (उत्तर प्रदेश)

व्रत (उपवास) – अनिल कुमार सागर
4.6 (92%) 10 votes

साहित्य लाइव रंगमंच 2018 :: राष्ट्रीय स्तर पर हिंदी प्रतियोगिता • पहला पुरस्कार: 5100 रुपए राशि • दूसरा पुरस्कार: 2100 रुपए राशि • तीसरा पुरस्कार: 1100 रुपए राशि & अगले सात प्रतिभागियों को 501/- रुपये प्रति व्यक्ति

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account