Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

इंसां-Study-KSF

कोई कहता है क्या ये समझ सीखिए
टूटते रिश्तों को बचाने की अकल सीखिए
यूं तो जंगल में पशु भी रहते तन्हा नहीं,
हम तो इंसां हैं, इंसानियत का सबक सीखिए

47 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Study-KSF

Study-KSF

मेरा नाम कौसर जहाँ 'नूरी' है, ग्राम- धिरावां, गोला खीरी से हूँ|मैंने एम. ए. (हिन्दी, संस्कृत), N. T. T, बाम्बे आर्ट योग्यता प्राप्त की है|लेखन में रुचि होने से मैं साहित्य लाइव से जुड़ी हूँ|मैं नज़्म, ग़ज़ल, शायरी, कविता, कथा, कहानी लिखती हूँ|साहित्य लाइव मेरे लिए नये जीवन की तरह है|इससे जुड़कर मुझे आसमान में देखने का अवसर मिला है|यदि आपको मेरे लेख पसन्द आये, तो कृपया लाइक, शेयर, कामेन्ट अवश्य करें|

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp