Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

कोट्स प्रतियोगिता ‘ महिला सशक्तीकरण ‘-अजय-प्रताप सिंह

हे जन्म दात्री निर्माता तू ,पालक तू ,संहारक तू
अशक्त कभी न थी, ना है ,ना होगी युग तारक तू ,
सतीत्व ,मातृत्व विराजे गर सृष्टि जन्मा के अन्तर मे ,
सशक्तिकरण स्वयं होगा गर अबला बने विचारक तू ॥

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp