Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

मेरा प्यार-अंशु कुमत

इतना स तुम खूब समझती हो
मेरे अरमानों की तुम तसल्ली
बनी उलझनों के तुम राही हो
मेरे सपनों की तुम मेरी लवली

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp