Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

// प्रेम का अहसास //-चिंतनेताम

रातें कटती नहीं,
चुभने लगी है
बिस्तर की सिलवटें,
दिन भी नहीं गुजरता ,
अब चैन से,
जाने लगी है यह कैसी प्यास ?
पहले तो मुझे ,
ऐसा कुछ भी नहीं हुआ था
जब से किया है ऐ मेरे मन ,
तुम्हारे प्रति प्रेम का अहसास………!

1 thought on “// प्रेम का अहसास //-चिंतनेताम”

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp