एक दिन ऐसा आएगा… Poem By Pranay Kumar

एक दिन ऐसा आएगा…
न कोई किसी के हँसी पर पावंदी लगाएगा
न कोई किसी के ख़ुशी पर पावंदी लगाएगा
जिंदगी होगी अपनी,
सलीका होगा अपना,
सोच होगी अपनी,
रास्ता होगा अपना,
एक दिन ऐसा आएगा…

निकलेंगे सभी अपने काम पर,
पहुंचेंगे किसी न किसी मुकाम पर,
न लेंगे किसी का सहारा,
न मानेंगे कभी खुद को हारा,
ख़ुशी होगी अपनी,
दुःख भी होगा अपना,
एक दिन ऐसा आएगा…

न कोई दूसरों के काम में टांग अराएगा
न कोई किसी को बहकएगा
न जरूरत पड़ेगी किसी वकील की
न जरूरत पड़ेगी किसी दलील की,
एक दिन ऐसा आएगा…

लेखक – प्रणय कुमार
Pranay kumar

0
comments
  • Ek din!! Awsm lines!

    0

  • Leave a Reply

    Create Account



    Log In Your Account