Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

कलाम को मेरा सलाम Poem By Sachin A. Pandey

कलाम को मेरा सलाम

हुआ था एक बुद्धि-सम्राट,
कथा है जिसकी बहुत विराट;
कभी न भाया जिसे आराम,
उस कलाम को मेरा सलाम।

हिंद को किया परमाणु प्रदान,
वह था धरणी माँ का वरदान;
जिसने किए खोज तमाम,
उस कलाम को मेरा सलाम।

जो `मिसाइल मॅन´ कहलाया,
शास्त्र जगत में इतिहास बनाया;
जिसको प्यारी सारी आवाम,
उस कलाम को मेरा सलाम।

जिससे प्रेरित बूढ़े-जवान,
उर से करूँ उसका गुणगान;
चित्त के जिसके कोई न दाम,
उस कलाम को मेरा सलाम।

धन्य हुई माँ उसको पाकर,
कितनी होगी वह जननी महान;
जन्मा न फिर ऐसा मानव आम,
अब्दुल कलाम को मेरा सलाम।
– सचिन अ. पाण्डेय

796 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Sachin Pandey

Sachin Pandey

मैं सचिन पांडेय मुंबई महाराष्ट्र का निवासी हूँ। मैं श्रृंगार रस का कवि हूँ।

3 thoughts on “कलाम को मेरा सलाम Poem By Sachin A. Pandey”

  1. 619286 460558Hi. Cool write-up. There is actually a dilemma with the web internet site in firefox, and you may want to test this The browser will be the marketplace leader and a huge portion of folks will miss your superb writing due to this difficulty. 448044

  2. 379689 420029Spot ill carry on with this write-up, I truly think this internet site requirements a terrific deal much more consideration. Ill oftimes be once far more to see far a lot more, numerous thanks that information. 872431

Leave a Reply

जागो और अपने आप को पहचानो-प्रिंस स्प्तिवारी

मैंने सुना है कि एक आदमी ने एक बहुत सुंदर बगीचा लगाया। लेकिन एक अड़चन शुरू हो गई। कोई रात में आकर बगीचे के वृक्ष

Read More »

Join Us on WhatsApp