Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

बेटी क्या इतनी बुरी होता है

जब लड़की पैदा होती है तो घर में खामोशी छा जाती है,
है एक सवाल मेरा सबसे क्या लड़की इतनी बुरी होती है?
बेटी को जन्म देने वाली माँ भी तो खुद एक बेटी होती है
तो फिर वो माँ चन्द लोगों के डर से क्यों अपनी बेटी का अस्तिव मिटाती है।
नहीं आती लाज, शर्म उनको, जो अजन्मी बेटी को ही खाँ जाते हैं,
अपने स्वार्थ के कारण एक माँ की कोख को ही कब्र बनाते है।
है दोष क्या उस नन्ही सी परी का जो दुनिया में आने से पहले मारी जाती है,
है एक सवाल मेरा सबसे क्या लड़की इतनी बुरी होती है?
बेटा करे चाहे लाखों गलती उन सब पर पर्दे डाले जाते हैं,
और दो साल की बेटी को दुनिया के दस्तूर सिखाये जाते हैं।
बेटी से छिनकर सब हक क्यों बेटों को दे दिए जाते हैं,
ये देखकर तुमको क्या थोड़ी भी शर्म नहीं आती है,
है एक सवाल मेरा सबसे क्या लड़की इतनी बुरी होती है?
उस बेटी के सपनों को क्यों देखने से पहले ही तोड़ दिया जाता है,
फिर मान मर्यादा एक नया पाठ उसको सिखला दिया जाता है।
लगाकर रोक-टोक उसपर चारदीवारी में कैद कर लिया जाता है,
और इस दुनिया की है घटिया सोच में उसको ढ़ाल दिया जाता है।
सहकर लाख दुःख फिर भी ना उसकी चीख सुनायी देती है,
क्यों लड़की के पैदा होने से घर से खामोशी छा जाती है।

  Please Answer My Question 

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype

1 thought on “बेटी क्या इतनी बुरी होता है”

  1. बेटी के बिना तो यह संसार अकल्पनीय है।
    अदभुत रचना है आपकी

Leave a Reply