Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

मैं कवि…(कविता) By विश्वम्भर पाण्डेय ‘व्यग्र’

मैं कवि… (कविता)


कभी अक्षर की खेती करता
कभी वस्त्र शब्दों के बुनता
बाग लगाता स्वर-व्यंजन के
मात्राओं की कलियां चुनता
मैं कवि, कृषक के जैसा
करता खेती कविताओं की
और कभी बुनकर बन करके
ढ़कता आब नर-वनिताओं की
भूत-भविष्य-वर्तमान सभी
तीनों काल मिले कविता में
बर्फ के मानिंद ठंडक मिलती
ताप मिलेगा जो सविता में
मैं भविष्य का वक्ता मुझको
सूझे तीनों काल की बातें
ं मेरी ही कविता को गायक
कैसे-कैसे स्वर में गाते
वेद पुराण गीता और बाईबल
ये सब मेरे कर्म के फल है
डरते मुझसे राजे-महाराजे
कलम में मेरी इतना बल है

     ------------------------

— विश्वम्भर पाण्डेय ‘व्यग्र’
कर्मचारी कालोनी,गंगापुर सिटी,
स.मा. (राज.)322201
मोबा : 9549165579

917 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype

1 thought on “मैं कवि…(कविता) By विश्वम्भर पाण्डेय ‘व्यग्र’”

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp