Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

सौगंध किधर है? मोदी सरकार से कुछ सवाल :: रविश कुमार

सौगंध किधर है

देखी तूने सुकमा की हालत ,शहीदों की बौछार लगी है ….
भारत भूमि को बचाने की ,तेरी वह सौगंध किधर है  ।।

नजर उठाकर जिधर भी देखूं ,तेरी ही सरकार उधर है ….
फिर कैसी विवशता है तेरी, वो गरजती आवाज किधर है।।
मेरे एक दोस्त ने पूछा ,  56  इंच के सीने को ठोका…..
मोदी भक्त बने फिरते हो, आज वह तेरा भगवान किधर है ।।

‘रविश’ का नमन उन शहीदों को, जो मां की सेवा में प्राण बिछाए हैं…
शोकाकुल व गौरवान्वित, उन परिवारों से तेरा साथ किधर है ।।
बढ़ाओ उनके आश्रितों के परवरिश की राशि को …..
गर्वित हृदय है आज सबका  ,  पर तेरा ध्यान किधर है ।।

सच में देश के लिए भी कुछ करोगे ,या सिर्फ चुनाव ही जीतोगे…
कुछ तो साहसिक कदम उठाओ,तेरी बहुमत वाली सरकार किधर है।।
MP भी तेरा है UP भी तेरा है,असम व छत्तीसगढ़ में भी तू है …
नया कमल खिलाने की तेरी ,बताओ अबकी नजर किधर है ।।

आज इतिहास के पन्नों से , इंदिरा की सरकार को देखो ….
तेरी ऐसी महत्वाकांक्षी, व साहसिक प्रयास किधर है ।।
वो तो इंदिरा जी ही थीं , जिसने पाकिस्तान को बांटा ….
ऐसी सफल कूटनीति का  , तेरा वो विचार किधर है  ।।

मजबूर करवा दी थी आत्मसमर्पण को,पाकिस्तानी सेना को जिन्होंने…
उनको दिया  जाने वाला ,  तेरा  वो  सम्मान  किधर  है   ।।
बंद करो यह जुमलेबाजी , दिलवा दो हमें वही सम्मान …..
डर भर दूंगा हर आतंकी में , तेरा वह हुंकार किधर है ।।

कुछ भी  नहीं  होगा  ,  नोटबंदी  जैसे  नौटंकी  से ….
कालेधन वाले राजनेताओं,व रईसों के नाम किधर है ।।
देखी तूने सुकमा की हालत ,शहीदों की बौछार लगी है…
भारत भूमि को बचाने की, तेरी वह सौगंध किधर है ।।

संभल नहीं रही तुझसे , कश्मीर में हो रही हिंसा …..
बताओ इसके लिए , हो रहे प्रयास किधर हैं ।।
ना ही देश में बंद हो रहे,  नक्सली हमले  ……
तेरी बहुमत वाली ,  वो सरकार किधर है  ।।

इतना बड़ा फैन नहीं है ‘रविश बेगुसराय’ तेरा…
कि हमारे जवान शहीद होते रहें  ,
और मैं मन में मोदी-मोदी करता रहूं ….
प्राण जवानों के बचाने की , तेरी वह सौगंध किधर है ।।

उठाओ साहसिक कदम, और दो पूरी आजादी जवानों को ..
अपनों पर विश्वास करने की ,अबकी तेरा ध्यान किधर है ।।
देखी तूने सुकमा की हालत, शहीदों की बौछार लगी है….
भारत भूमि को बचाने की  , तेरी वह सौगंध किधर है ।।

रविश कुमार

900 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype

4 thoughts on “सौगंध किधर है? मोदी सरकार से कुछ सवाल :: रविश कुमार”

Leave a Reply

ग़ज़ल – ए – गुमनाम-डॉ.सचितानंद-चौधरी

ग़ज़ल-21 मेरी ग़ज़लों की साज़ हो , नाज़ हो तुम मेरी साँस हो तुम , मेरी आवाज़ हो तुम मेरे वक़्त के आइने में ज़रा

Read More »

बड़ो का आशीर्वाद बना रहे-मानस-शर्मा

मैंने अपने बड़े लोगो का सम्मान करते हुए, हमेशा आशीर्वाद के लिए अपना सिर झुकाया है। इस लिए मुझे लोगो की शक्ल तो धुँधली ही

Read More »

Join Us on WhatsApp