आना-जाना – मुनमुन सिंह

आना-जाना – मुनमुन सिंह

मुझे था धरा पर अकेले आना
मुझे है धरा से अकेले जाना।
रूपये नहीं, अन्न नहीं, न बैठने का अंगना
पत्नी नहीं, तनय नहीं, न सेवा के लिए तनया।
मुझे था धरा पर अकेले आना
मुझे है धरा से अकेले जाना।
अपनी अवनी नहीं, संसार नहीं, न रक्षा के लिए पदमासना।
नीर नहीं, नीरद नहीं, न ठहरने के लिए छाव।
मुझे था धरा पर अकेले आना
मुझे है धरा से अकेले जाना।

–मुनमुन सिंह

1+

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account