आशिक़ की ज़ुबान-मेघवाल

आशिक़ की ज़ुबान-मेघवाल

चल जाते है वहां इंसान तो

क्या क्षितिज की परास नहीं,

एक आशिक की ज़ूबा है

ये किसी शायर का ख्वाब नहीं।

 

        मेघवाल

    डूंगरपुर,राजस्थान

1+

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account