Notification

आत्मसम्मान-देवेंद्र अवस्थी

हर बार तुम्हारे मना करने पर
गर वो वही बात दुहराते है,
जिस बात से तुम्हें दुख होता हो
हर बार वही वो कर जाते है,
फ़िर तो जाहिर है ये बात कि
दिल में उसके प्यार नही है,
खातिर तेरी उसके दिल में
इज्जत कभी भी रही नहीं है,
फ़िर कितना भी कर ले त्याग आप
पर वो तेरी इज्जत न कर पायेगा,
आत्मसम्मान भी खो दोगे तुम
और कुछ भी हाथ नहीं आएगा,

-देव….

Leave a Comment

Connect with



Join Us on WhatsApp