Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

बगुलो कि वजह से मोती चूगने

कभी-कबार मेहनत करने वाले धोकेबाजों कि वजह से रह जाते हैं|
बगुलो कि वजह से मोती चूगने वाले हंस भूके रह जाते हैं|
आँखे मुंद कर उनके पास
से नीकल जाना
यदि हो जाओ असफल तो
उनकी नीगाहों
से फिसल जाना ||
सर रोकते हैं बहती अनिल को तभी तो पानी लहरों में बदल जाता हैं|
एक ईर्ष्यालू रोकता हैं किसी मोहनती को सफल उसके होने से,बर्बाद वह हो जाता हैं |

    आ.....चल कह दे आज
                उनसे,
    जो टकरायेगा दुश्मनी से
                हमसे, 
  भष्म हो जायेगा अपने पापी 
              जूनून से,

मोहब्बत करो सभी से पर वह भी
सच्चे दिल से ||
अरे ! जान ले अब भी काल चक्र आधा हैं ,हंस बन,बन ना कभी तु बगुला,
क्योंकि….. घमण्ड का फल सिर्फ बुरादा हैं|
फीर भी…….
मन से,
दिल से,
आपकी दुआ इस दिल से ||

13 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Raz-Varma

Raz-Varma

मेरा नाम- राज वर्मा गोठवाल माता का नाम- मन्जू देवी पीता का नाम- सोहन लाल गोठवाल गांव- काकोट पोस्ट- प्रेंमपुरा वाया- कुंकनवाली जिला- नागौर (राजस्थान) धर्म- हिन्दु

Leave a Reply

लॉक-डाउन से मज़दूरों की दशा, अर्थव्यवस्था व जीवन पर प्रभाव

*सडकों पे मरते थे बेटे* भूखे-बेचारे मजदूरों का पक्ष रखती हुई कवि अवधराम गुरु की बहुत ही बेहतरीन कविता जय हो सत्ता के लोभी बाज

Read More »