बह रही खून कि धारा – Aman Sharma

बह रही खून कि धारा – Aman Sharma

बह रही खून कि धारा , ढूंड रही कोई किनारा ।
धड़कता सा ये दिल कर रहा कोई इशारा ।
कहता है ले चल सपनों कि दुनियां में , जहां मन लगता हमारा ।
जहां वादियां हो हसिन , जो हो सबसे रंगीन ।
जहां रोके न हमें कोई ,जहीं टोके न हमें कोई ।
मैं कहता हूं , रूक जा जरा इंतजार कर ।
मुझ पर न सही तो खुद पर एतवार कर ।
जिंदगी अभी बहुत लंम्बी है,जिसमें काफि उमीदें टंगी है ।
रूक जा जरा सपने न देख वो जो पुरे न हो सके ।
चलते जाना है अपने सपनों से मुहं मोड़ कर , जिनी है जिंदगी अपनों की उमीदों को जोड़ कर ।
दिल कहे जिंदगी क्या है , दो दिन कि मेहमान है चली जाएगी ।
तेरी ख्बाइशें यूं हि रह जाएगी ।
जिंदगी क्या है ये तो चली जाएगी ,
फिर कभी वापिस नहीं आएगी ।
जिंदगी को नहीं अपने सपनों के लिए जिना सिख,
अपनों के लिए हि सही लेकिन अपने लिए भी जिना सिख ।

By Amāñ Sharma

DishaLive Group

Hi,

This account has articles of multiple authors. These all written by Sahity Live Authors, but their profile is not created yet. If you want to create your profile then send email to team@sahity.com

Visit My Website
View All Articles

I agree to Privacy Policy of Sahity Live & Request to add my profile on Sahity Live.

0

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account